News

जैश सरगना पर बैन की भारत की कोशिश पर चीन ने फेरा पानी

Last Modified - April 1, 2016, 12:25 pm

चीन ने एक नाटकीय घटनाक्रम में पठानकोट आतंकी हमले के मास्टर माइंड और जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने की भारत की कोशिश पर UN में एक बार फिर रुकावट पैदा कर दिया है।सूत्रों के मुताबिक गुरुवार को समयसीमा से कुछ घंटे पहले चीन ने संयुक्त राष्ट्र की समिति से अनुरोध किया कि इसे रोका जाए। गौर हो कि यह समिति पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख पर पाबंदी पर विचार कर रही है। चीन ने एक बार फिर यूएन की कमेटी से मसूद को बैन किए जाने का विरोध किया। मसूद को बैन करने के लिए भारत ने यूएन से अपील की थी। 15 में से 14 देश थे जो भारत के समर्थन में थे। यूएन कमेटी में अजहर मसूद को बैन करने पर फैसला होना था। कमेटी में शामिल 15 में से 14 देश इसके हक में थे। रिपोर्ट के मुताबिक बैन के समर्थन में अमेरिका, यूके और फ्रांस जैसे देश थे, सिर्फ चीन ने इसका विरोध किया।गौर हो कि दो जनवरी को पठानकोट में वायुसेना अड्डे पर हमले के बाद, फरवरी में भारत ने संयुक्त राष्ट्र को पत्र लिखते हुए अजहर पर प्रतिबंध लगाकर तुरंत कार्रवाई करने की मांग की थी। यह मांग संगठन के आतंकी गतिविधियों और पठानकोट हमले में इसकी भूमिका को लेकर पुख्ता सबूतों के साथ की गई थी। इस हमले में सात भारतीय सैन्यकर्मी शहीद हो गए थे। संयुक्त राष्ट्र ने 2001 में जैश-ए-मोहम्मद को प्रतिबंधित किया था, लेकिन अजहर को प्रतिबंधित कराने के भारत की कोशिश कामयाब नहीं हो पा रही है, क्योंकि सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देशों में से एक चीन इस प्रतिबंध की स्वीकृति नहीं दे रहा है।

Trending News

Related News