News

NSG मेंबरशिप को लेकर रूस के राष्ट्रपति से पीएम मोदी ने की बातचीत

Last Modified - June 13, 2016, 10:13 pm

नई दिल्ली। भारत NSG (न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप) का सदस्य बनने को लेकर कदम उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ना नहीं चाहता है। वहीं चीन और अमेरिका अडंगा डालने में पीछे नहीं हट रहे हैं। पीएम ने इसी दौरान कई देशों का दौरा भी किया। चीन और पाकिस्तान नहीं चाहते कि भारत को NSG की सदस्यता मिले।

इसी को लेकर पीएम मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लदीमीर पुतिन को फोन किया और लंबी बात की। पुतिन ने भारत को एनएसजी में शामिल करने का समर्थन किया है। पीएम मोदी ने अमेरिका का दौरा किया, जहां NSG मुद्दे पर अमेरिका, भारत के पक्ष में है। अमेरिका, स्विट्जरलैंड, मैक्सिको, ब्रिटेन समेत कई बड़े देश भारत को NSG सदस्यता में शामिल करने के पक्ष में हैं। वहीं भारत रूस का रुख भी जानना चाहता है।

चीन परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत को शामिल नहीं किए जाने पर अड़ा हुआ है। चीन ने कहा कि एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले देशों एनएसजी में शामिल नहीं किया जाए क्योंकि यह अप्रसार को रोकने की कोशिशों की अनदेखी होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को एनएसजी यानी परमाणु आपूर्ति समूह में शामिल करवाने के लिए पूरी ताकत से जुटे हुए हैं।

Trending News

Related News