IBC-24

मध्य प्रदेश में 30 जून को हो सकता है कैबिनेट का विस्तार, 7 से 8 नए MLA बन सकते हैं मंत्री

Reported By: Pushpraj Sisodiya, Edited By: Pushpraj Sisodiya

Published on 27 Jun 2016 10:19 PM, Updated On 27 Jun 2016 10:19 PM

भोपाल। मध्यप्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार के संकेत के बाद  दावेदारों ने भोपाल से लेकर दिल्ली तक किलेबंदी शुरू कर दी है। सोमवार को दिन भर भाजपा में बैठक, गुफ्तगू और लंच लॉबिंग का सिलसिला चलता रहा। सूत्रों के मुताबिक 30 जून को सीएम शिवराज के मंत्रिमंडल के नए मंत्रि शपथ ग्रहण कर लेंगे। मध्यप्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार का काउंटडाउन शुरू हो गया है। सोमवार का पूरा दिन भाजपा के अंदरखाने सियासी माहौल गर्माया रहा।

सोमवार को दोपहर 12 बजे सीएम शिवराज राज्यपाल रामनरेश यादव से मिलने निजी अस्पताल पहुंचे। दोपहर सवा बारह बजे विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीताशरण शर्मा और संसदीय कार्यमंत्री नरोत्तम मिश्रा भी राज्यपाल से मिलने अस्पताल पहुंचे। चारों के बीच अस्पताल में मंत्रणा हुई। दोपहर 1 बजे सीएम, विस अध्यक्ष और नरोत्तम मिश्रा विस अध्यक्ष के बंगले पहुंचे। तीनों के बीच तकरीबन एक घंटे तक मंत्रणा चली। दोपहर सवा बजे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा के बंगले पहुंचे और मंत्रिमंडल विस्तार के  साथ  ही प्रदेश कार्यकारिणी पर चर्चा की। दोपहर 2 बजकर 20 मिनट पर नंदकुमार चौहान और सुहास भगत पटवा के बंगले से निकल कर सीएम हाउस रवाना हुए, जहां तकरीबन तीन घंटे तक सीएम-नंदकुमार और भगत के बीच मंत्रिमंडल की फेहरिस्त को लेकर माथापच्ची हुई। सुबह से लेकर देर शाम के बीच भाजपा के तकरीबन दो दर्जन विधायकों और पांच मंत्रियों ने सीएम हाउस जाकर सीएम से मुलाकात की। कई विधायक नंदकुमार सिंह चौहान और सुहास भगत से भी मिले।

सूत्रों के मुताबिक शिवराज 6 से 8 विधायकों को अपनी टीम में शामिल कर सकते हैं। दिल्ली एक-दो सीनियर मिनिस्टर को रिटायर करने के मूड में थी, लेकिन शिवराज इससे सहमत नहीं थे। लिहाज़ा अब किसी की छुट्टी नहीं होगी। शिवराज नए चेहरों में क्षेत्रीय संतुलन बैठाने की कोशिश कर सकते हैं, ऐसे में बुंदेलखंड से किसी अनुसूचित जाति वर्ग, मालवा से किसी आदिवासी को और विंध्य से किसी क्षत्रिय को जगह मिल सकती है।

बताया जा रहा है, कि सीएम की प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे के साथ एक-दो दिन में बैठक हो सकती है। तब तक राज्यपाल भी स्वस्थ होकर राजभवन लौट आएंगे। अब नज़र इस बात पर है कि शिवराज किस पर नजरे इनायत करते हैं।

ibc-24