News

पाकिस्तान: 46 अरब डॉलर की लागत से बन रहे 'चीन-पाक' कॉरिडोर को लेकर उठे विरोध के स्वर

Last Modified - October 19, 2016, 2:31 pm

पाकिस्तान में 46 अरब डॉलर की लागत से बनने वाले चायना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर को लेकर विरोध के स्वर उठने लगे हैं. कई पाकिस्तान सांसदों ने सरकार को आगाह किया है कि अगर देश के हितों का ध्यान नहीं रखा गया तो ये कॉरिडोर एक और 'ईस्ट इंडिया कंपनी' बन जाएगा.

उन्होंने नवाज शरीफ सरकार पर प्रोजेक्ट में स्थानीय लोगों की अनदेखी का आरोप भी लगाया पाकिस्तान के अखबार डॉन के मुताबिक प्लानिंग और डेवेलपमेंट पर सीनेट की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में इसके चेयरमैन और सांसद ताहिर माशहदी ने कहा, "एक और ईस्ट कंपनी बनने जा रही है, राष्ट्रीय हितों का ध्यान नहीं रखा जा रहा.

हमें चीन और पाकिस्तान की दोस्ती पर गर्व है लेकिन देश के हितों को सबसे पहले देखा जाना चाहिए." बैठक में बताया गया कि CPEC का बड़ा हिस्सा चीनी निवेश की जगह स्थानीय फंडिंग पर आधारित है...मशहादी के मुताबिक "ये हमारे लिए बहुत नुकसानदेह होगा कि सारा बोझ हम उठाएं चीन से जो भी कर्ज लिया जाएगा उसे पाकिस्तान के गरीब लोगों को चुकाना होगा."

Trending News

Related News