News

यहां के सुंदर पहाड़ देते है आंनद और आत्म शांति का पैगाम

अगर आप अपनी हाई प्रोफाइल लाइफ, दौड़ भाग और शहर के शोर शराबे से ऊब गए है और किसी ऐसी जगह की तलाश कर रहे है जहां आप शांती से कुछ समय बिता सके तो इन सभी चिजों के लिए आपको सिर्फ देश के अंतिम छोर पर बसे सिक्किम की राजधानी गंगटोक का रूख करना चाहिए। धूल धुंए रहित, बिना शोर-शराबे का एक शांत पहाड़ी शहर।

यहां आपकों हिन्दू और बौद्ध लोग बहुतायत मिलेगे मिलनसार स्थानीय लोगों से बात करके मालूम हुआ कि यहां पब्लिक प्लेस पर हॉर्न बजाना और सिगरेट पीना मना है। पर लिकर (शराब) कोई भी, कभी भी, कहीं भी पी सकता है, यह बात शायद हमारे युवा पाठको ज्याद पसंद आए, यहां के ज्यादातर लोग पर्यटन पर निर्भर हैं। सिक्किम के चार जिलों में से गंगटोक पूर्वी जिला है।

माल रोड यानी एमजी रोड पर महात्मा गांधी की बड़ी सी प्रतिमा है। जिसके लिए पत्थरों को बड़ा सा चैक बनाया गया है। इस रोड के दोनों तरफ सुसज्जित दुकानें और कई नई-पुरानी जगमगाती इमारतें हैं। बीच में डिवाइडर पर हरियाली बैठने के लिये बैंच और हर पचास मीटर पर डस्टबिन रखे दिखते हैं। 

Trending News

Related News