News

मूवी रिव्यू- 'गाजी अटैक'

Last Modified - March 28, 2017, 2:44 pm

फिल्म- ग़ाजी अटैक

कलाकार- के.के. मेनन, राणा दग्गुबाती, ओम पुरी, तापसी पन्नू, अतुल कुलकर्णी

निर्देशक-  संकल्प रेड्डी

 

नवंबर 1971 में दुनिया के नक्शे में आज के बांग्ला देश की पहचान ईस्ट पाकिस्तान के नाम से हुआ करती थी। उस दौर में पूर्वी पाकिस्तान में दमन और नरसंहार का दौर चल रहा था। पूर्वी पाकिस्तान में रहने वाला हर शख्स पाकिस्तानी सेना के जुल्म का शिकार था। पूर्वी पाकिस्तान में आजादी की मांग करने वाले बेगुनाह नागरिकों पर पाकिस्तानी सेना ने ऐसा दमन चक्र चला रखा था, जिसकी हर देश में जमकर आलोचना हो रही थी।
इसी दौर में17 नवंबर 1971 को इंडियन नेवी के हेडक्वॉर्टर में एक सीक्रेट जानकारी आती है कि पाकिस्तानी नेवी बीच समुद्र में देश की रक्षा में तैनात भारत के सबसे बड़े समुद्री बेड़े आईएनएस विक्रांत पर हमला कर सकती है।

गाज़ी अटैक ऐसी पहली मूवी है जो अंडरवॉटर वॉर पर बनी भारत की पहली फिल्म है। इस फिल्म की कहानी भारत और पाकिस्तान एक बीच हुई उस लड़ाई पर है, जिसमें पाकिस्तान को हार का मुंह देखना पड़ा था। हालांकि पाकिस्तान आज भी इस लड़ाई से इनकार करता है, लेकिन इस कहानी के ज़रिये फिल्म मेकर्स ने गाजी अटैक की उस लड़ाई को बड़े परदे पर उकेरने का भरसक प्रयत्न किया है, जिसे लोग भुला चुके हैं।

गाज़ी अटैक की कहानी को इतिहास के पन्नों से प्रेरित है। बता दें कि ये मूवी पहले तेलुगू डायरेक्टर संकल्प ने बनाई है, जो उनकी पहली फिल्म है। वैसे तो इस फिल्म की कहानी लोगों में देशभक्ति की भावना जगाती है, लेकिन इससे लोगों को बांधे रख पाने में फिल्म के डायरेक्टर को सफलता हासिल नही हुई है। फिल्म की कहानी इंटरवल तक आते आते नीरस हो जाती है, जिसकी वजह से लोगों की दिलचस्पी इसमें कम हो सकती है। यह भी पढ़े: ये है गाजी अटैक की असली कहानी

इस फिल्म की कहानी ‘ब्लू फिश’ पर आधारित है। साल 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध के दौरान पाकिस्तानी पनडुब्बी ‘पीएनएस गाजी’ अचानक रहस्यमयी ढंग से गायब हो गयी थी। माना जाता है कि जंग दौरान पाकिस्तान ने इसे आईएनएस विक्रांत पर हमले के लिए भेजा था। जिसे भारत की नौसेना के एस 21 पनडुब्बी ने हमला कर डूबा दिया था।

बात करें अभिनय की, तो फिल्म में बाहुबली से फेमस हुए एक्टर राणा दुगुबती, तापसी पन्नू, के के मेनन और अतुल कुलकर्णी ने कमाल कर दिया है। फिल्म में राणा दुगुबत्ति का अहम रोल देखा जा सकता है, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया है। वहीं तापसी पन्नू का किरदार भी दमदार दिखाया गया है। इसके साथ-साथ के के मेनन और अतुल कुलकर्णी ने भी अपने किरदारों के साथ इन्साफ किया है। इसके अलावा फिल्म में ग्राफिक्स और बैकग्राउंड म्यूजिक भी शानदार दिया गया है। फिल्म में किसी भाई तरह का कोई गाना नही है और न ही किसी जगह बेवजह कॉमेडी डालने की कोशिश की गई है।

Trending News

Related News