News

गिलगित, बाल्टिस्तान भारत का हिस्सा, पाकिस्तान ने किया अवैध कब्जा: ब्रिटिश संसद

ब्रिटिश संसद ने गिलगित-बाल्टिस्तान पर पाकिस्तान ने साल 1947 से गैरकानूनी तौर पर कब्जा कर रखा है. इससे संबंधित प्रस्ताव कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद बॉब ब्लैकमैन ने पेश किया था, इस प्रस्ताव के मुताबिक पाकिस्तान भारत के एक ऐसे हिस्से पर कब्जा करने की कोशिश कर रहा है जिस पर उसका कोई दावा नहीं है.

इस प्रस्ताव में कहा गया है कि गिलगित-बाल्टिस्तान कानूनी और संवैधानिक रूप से भारत के राज्य जम्मू-कश्मीर का हिस्सा है. 1947 से ही इस पर पाकिस्तान ने गैरकानूनी कब्जा कर रखा है.
प्रस्ताव में आरोप लगाया गया है कि इस इलाके के लोगों को मूलभूत सुविधाएं तक मुहैया नहीं हैं और उन्हें अभिव्यक्ति की आजादी भी उपलब्ध नहीं कराई गई हैं. गौरतलब है कि 1947 में ब्रिटेन से मिली आजादी के साथ हुए बंटवारे के वक्त से ही भारत गिलगित-बाल्टिस्तान को ऐतिहासिक और भूगोलीय आधारों पर अपना बताता आया है.

उस वक्त ब्रिटिश राज्य की सीमाओं के मुताबिक ही भारत और पाकिस्तान के विभाजन की शर्तें तय की गई थीं. ऐसे में ब्रिटिश संसद में पारित यह प्रस्ताव भारतीय पक्ष के हिसाब से काफी सकारात्मक है. बॉब ब्लैकमैन ने इस क्षेत्र में सीपीईसी के हो रहे अवैध निर्माण को लेकर भी पाकिस्‍तान सरकार की कड़ी आलोचना की है. इस बीच चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने कहा है कि चीन सीपीईसी से वहां के स्‍थानीय लोगों को मिलने वाले फायदे पर पाकिस्‍तान से बात कर आगे बढ़ने को पूरी तरह से तैयार है.

बता दें कि इस क्षेत्र में पाकिस्‍तान और चीन के सहयोग से बन रहे इस आर्थिक कॉरिडोर पर 51.5 बिलियन डॉलर की राशि खर्च हो रही है. इस कॉरिडोर को बनाने के पीछे पाकिस्‍तान के काशगर को चीन के शीजियांग से सीधा जोड़ना है. इसके बाद इसको आगे ले जाकर ग्‍वादर और फिर पाकिस्‍तान के बलूचिस्‍तान तक लेकर जाना है.

Trending News

Related News