मूवी रिव्यू: फिल्म 'नाम शबाना'

Reported By: Pushpraj Sisodiya, Edited By: Pushpraj Sisodiya

Published on 01 Apr 2017 04:56 PM, Updated On 01 Apr 2017 04:56 PM


स्टार कास्ट- तापसी पन्नू, अक्षय कुमार, मनोज बाजपेयी
निर्देशक-    शिवम नायर


फिल्म 'बेबी' के बाद अक्षय कुमार के बैनर तले बनी फिल्म 'नाम शबाना' सत्य घटना पर आधारित है.दरअसल इस फिल्म की कहानी 'बेबी' से आगे की नहीं बल्कि 'बेबी' से पहले की है। खबर है प्रॉडक्शन कंपनी इस फिल्म को पहले 'बेबी 2' टाइटल के साथ बनाना चाहती थी, लेकिन अक्षय इस फिल्म के साथ 'बेबी' शब्द नहीं जोड़ना चाहते थे, इसलिए फिल्म का टाइटल 'नाम शबाना' रखा गया।

वैसे, फिल्म की प्रॉडक्शन कंपनी का दावा है कि फिल्म एक सत्य घटना पर आधारित है, जिसे कुछ सिनेमाई लिबर्टी लेकर बनाया गया। संयोग है कि अक्षय स्टारर 'बेबी' के क्लाइमैक्स में नजर आईं तापसी का किरदार करीब 20 मिनट का था तो अब इस फिल्म में अक्षय कुमार का किरदार करीब 20 मिनट में सिमट कर रह गया।

बेशक फिल्म का टाइटल 'बेबी' न हो, लेकिन फिल्म में अनुपम खेर, डैनी और मुरली शर्मा का किरदार 'बेबी' से कतई अलग नहीं है। हां, यह बात अलग है कि मुरली शर्मा का किरदार बेशक पिछली फिल्म से अलग नहीं है, लेकिन उनका मिनिस्टर के पीए वाला किरदार इस फिल्म के साथ कहीं कनेक्ट नहीं कर पाता।

जहां पिछली फिल्म की यूएसपी पिछली फिल्म की स्पीड, दमदार स्क्रिप्ट और अक्षय कुमार की बेहतरीन ऐक्टिंग थी तो वहीं इस फिल्म की इकलौती यूएसपी तापसी पन्नू ही हैं। वैसे इस फिल्म के डायरेक्टर शिवम नायर की कुछ पिछली फिल्मों पर नजर डाली जाए तो उनकी पिछली फिल्में बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास नहीं कर पाईं। ऐसे में नामी स्टार के साथ अच्छे बैनर की 'नाम शबाना' का बॉक्स ऑफिस पर हिट होना अहम है।

फिल्म की स्टोरी-
शबाना खान (तापसी पन्नू) का बचपन अपने घर में घरेलू कलह को देखते हुए बीत रहा है। शबाना की मां ने बेशक लव मैरिज की, लेकिन शादी के बाद हालात कुछ ऐसे बदले कि उसकी शादीशुदा जिंदगी तबाह होकर रह गई। शबाना का पिता अक्सर घर में शबाना की मौजूदगी में ही उसकी मां को जमकर पीटता और उसकी मां हमेशा मदद के लिए शबाना को बुलाया करती थी।

आखिर, एक दिन शबाना के सब्र का पैमाना टूटा और उसने अपने पिता के सिर पर ऐसा जमकर वार किया कि उसके पिता ने वहीं दम तोड़ दिया। शबाना को जूवेनाइल कोर्ट ने दो साल की सजा दी। स्पेशल टाक्स फोर्स के चीफ रणवीर सिंह (मनोज बाजपेयी) की नजरें उसी वक्त से शबाना पर टिकी हुई थीं जब उसने अपने पिता को मारा था।

कॉलेज स्टडी के दौरान शबाना ने जूडो सीखा और कई जूडो कॉम्पिटिशन में हिस्सा लिया। एक दिन शबाना की आंखों के सामने उसके प्रेमी जय की हत्या कर दी जाती है, लेकिन पुलिस सबूत न होने की बात कहकर कुछ नहीं कर रही। ऐसे हालात में, टास्क फोर्स चीफ रणबीर शबाना की मदद करता है। रणबीर की मदद से शबाना जय के कातिल को उसके अंजाम तक पहुंचाती है।

अब शबाना टास्क फोर्स का हिस्सा बन चुकी है, शबाना को एक खास म

ibc-24