मूवी रिव्यू- फिल्म 'पूर्णा'

Reported By: Pushpraj Sisodiya, Edited By: Pushpraj Sisodiya

Published on 01 Apr 2017 05:20 PM, Updated On 01 Apr 2017 05:20 PM


स्टार कास्ट- अदिति ईमानदार, राहुल बोस, हीबा शाह, धृतिमान चटर्जी, एस.मारिया
निर्देशक-    राहुल बोस


फिल्म स्टोरी-
एक आईपीएस अफसर जब गरीब-वंचित बच्चों पर विश्वास व्यक्त करते हुए उन्हें कामयाब पर्वतारोही बनाना चाहता है तो उससे वरिष्ठ अधिकारी प्रश्न करती है, ‘क्या तुम स्लमडॉग माउंटेनियर बनाना चाहते हो?’ निर्माता-निर्देशक राहुल बोस पूर्णा में वह अधिकारी हैं जो विदेश से पढ़ कर लौटने के बाद समाज कल्याण विभाग में काम करता है।

वहीं उसकी मुलाकात सरकारी आवासीय स्कूल छोड़ कर भागने वाली पूर्णा मलावत से होती है। जिससे पुरानी स्कूल का मास्टर इसलिए हर वक्त झाड़ू लगवाता था कि उसके पिता ने फीस नहीं भरी। फिल्म सरकारी शिक्षा व्यवस्था, उसकी वास्तविक स्थिति, ग्रामीण पिछड़े इलाकों में लड़कियों की शिक्षा, बाल विवाह और पूरे तंत्र में बुने भ्रष्टाचार को सामने लाती है। पूर्णा बायोपिक है।

वर्तमान तेलंगना राज्य के निजामाबाद जिले के ग्रामीण इलाके में जन्मी-पली पूर्णा मलावत की। जिसने 2014 में मात्र 13 साल 11 महीने की उम्र में दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी एवरेस्ट पर पहुंचने का करिश्मा किया था। इस उम्र में एवरेस्ट का शिखर छूने वाली वह सबसे कम उम्र की लड़की है।

ibc-24