News

दलाई लामा उस शख्स से मिल भावुक हो गए जिसने 58 साल पहले उनकी जान बचाई थी...


तिब्बती धर्मगुरू दलाई लामा की आंखें उस शख्स से मिलकर भर आई जिस शख्स ने 58 साल पहले उनकी जान बचाई थी.असम राइफल्स के रिटायर्ड हवलदार नरेन चंद्र दास वही फौजी हैं, जिन्होंने 1959 में चीनी हमले से बचाकर दलाई लामा को तिब्बत से भारत लेकर आए थे.

अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर से एस्कॉर्ट कर भारत लाने वाली फौजी को देखते ही दलाई लामा की आंखों से आंसू बहने लगे. दलाई लामा ने कहा कि आपका चेहरा देखकर लगता है कि अब मैं भी बुजुर्ग हो गया हूं. 58 साल पहले आपने मेरी जान बचाई थी.
 
कैमरे में कैद हुई भावुक पल की ये तस्वीरें असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने अपने ट्विटर पेज से ट्वीट किया है. नरेन चंद्र को देखते ही दलाई लामा भावुक होते हुए उनके गले लग गए. उन्हें सलाम किया. दोनों के बीच काफी कुछ बातें भी हुईं. यह भावुक पल माछखोवा में प्रज्ञयोति आईटीए कल्चरल सेंटर में दिखा. रिजिजू ने दलाई के भारत पहुंचने के वक्त की कई अन्य तस्वीरें भी ट्वीट की हैं.

Trending News

Related News