News

'आप' पार्टी ने कुमार विश्वास को राजस्थान का प्रभारी बनाया

कुमार विश्वास को राजस्थान का प्रभारी बनाया गया है, वहीं अमानतुल्लाह ख़ान को पार्टी ने निलंबित कर दिया है. अमानतुल्लाह ख़ान ने कुमार विश्वास को बीजेपी और आरएसएस का एजेंट बताया था. उन पर पार्टी तोड़ने का आरोप लगाया था, जिसके बाद कुमार विश्वास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि अमानतुल्लाह ख़ान मुखौटा हैं पीछे कोई और है.

बाद में कुमार विश्वास को मनाने की कोशिश शुरू हुई. अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया उनसे मिले और आज आम आदमी पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी की बैठक में कुमार विश्वास शामिल हुए. उन्होंने कहा कि उन्हें किसी पद का लालच नहीं है. मनीष सिसोदिया ने अमानतुल्लाह को निलंबित करने की जानकारी दी.

 इससे पूर्व मंगलवार रात मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया गाजियाबाद में कुमार विश्वास के घर पहुंचे थे. कुछ देर की बातचीत के बात केजरीवाल कुमार विश्वास को अपने घर ले गए. केजरीवाल ने कहा था कि कुमार विश्वास की कुछ नाराज़गियां हैं, लेकिन उन्हें पूरा यकीन है कि कुमार मान जाएंगे.

इससे पहले कपिल मिश्रा, संजय सिंह, आशुतोष, अवतार सिंह कुमार विश्वास को मनाने उनके घर पहुंचे थे. मंगलवार को मीडिया से बातचीत में भावुक होते हुए कुमार विश्वास ने कहा था कि 24 घंटे में तय कर लेंगे कि आगे क्या करना है. (कुमार विश्वास हैं देशभक्त, केजरीवाल भारत तेरे टुकड़े होंगे नारे लगाने वालों के साथ : मनोज तिवारी)

इतना ही नहीं विश्वास ने सोमवार को पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक में पार्टी नेताओं को मीडिया से बात करने पर परहेज बरतने के फैसले को धता बताते हुए पत्रकारों से औपचारिक बातचीत भी की थी. इस दौरान उन्‍होंने कहा था कि वह पार्टी की गलतियों को उजागर करते रहेंगे और देशहित में जो भी सही होगा उसे बोलने से नहीं रुकेंगे. ('अविश्वास' के संकट में फंसती आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल!)

विश्वास ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आप संयोजक पद से हटाकर उन्हें यह जिम्मेदारी देने की मांग के सवाल पर कहा था कि उनके मन में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री या आप संयोजक बनने की कोई महत्वाकांक्षा नहीं है. पंजाब, गोवा विधानसभा चुनाव और नगर निगम चुनाव में आप के लचर प्रदर्शन को देखते हुए पार्टी के तमाम विधायक केजरीवाल
को पार्टी संयोजक पद से हटाने की पैरोकारी कर रहे हैं.

 विश्वास ने भावुक होते हुए कहा था कि 'मैं यह बात केजरीवाल और सिसोदिया को पहले ही बता चुका हूं कि मेरी ऐसी कोई इच्छा नहीं है. ना ही मैं स्वराज इंडिया या किसी अन्य राजनीतिक दल में शामिल होने जा रहा हूं'. हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा था कि अमानतुल्ला खान अगर केजरीवाल या सिसोदिया के खिलाफ कुछ भी बोलते तो उन्हें 10 मिनट के भीतर पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता.

Trending News

Related News