रायपुर News

केंद्रीय शहरीयय विकास मंत्रालय की जारी स्वच्छता रैंकिंग में फिर पिछड़ा रायपुर...

Last Modified - May 4, 2017, 12:27 pm

छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े नगर निगम रायपुर का सिर एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर झुक गया है. बता दें कि केंद्रीय शहरीय विकास मंत्रालय की ओर जारी स्वछता रैकिंग में रायपुर फिर पिछड़ गया है. जबकि स्वछता सर्वेक्षण की टीम को चमक धमक दिखाने और बेहतर रेटिंग के लिए नगर निगम के अधिकारियों ने लाखों रूपए बिना MIC के स्वीकृति के आनन-फानन में खर्च किए थे.

आपको याद दिला दें कि निगम का पूरा अमला सर्वेक्षण टीम को साफ-सुथरा स्थान दिखाने की जुगत में जुट गया था. मगर सर्वेक्षण टीम की ओर से राजधानी में भारी गंदगी, बजबजाती नालियां, पेय जल की समस्या, नालियों से गुजरते हुए पाइप लाइन, गली-चौराहों पर नुक्कड़ का ढ़ेर, सॉलिड वेस्ट मेनेजमेंट की कमी, ट्रंचिंग ग्राउंड की कमी, कुव्यवस्थित परिवहन व्यवस्था सहित उन तमाम अव्यवस्थाओं को चिन्हिंत किया गया था जिससे शहरवासी रोज दो-चार होते हैं. 

हालांकि सर्वे के दौरान निगम आयुक्त से लेकर महापौर तक की ओर से बेहतर रैकिंग का दावा किया गया था. मगर सारे दावे एक बार फिर बेमानी ही साबित हुए हैं. जबकि छत्तीसगढ़ के तीन नगरीय निकाय दुर्ग, भिलाई और अंबिकापुर के बेहतर रैकिंग की उम्मीद है क्योंकि इन तीनों निकायों के महापौर और आयुक्त को सम्मान लेने के लिए दिल्ली बुलाया गया है. गौरतलब हैं कि रैकिंग में पिछड़ने पर महापौर ने कहा था वह रैकिंग नहीं आई है जिसकी हमे उम्मीद थी.

Trending News

Related News