News

छग में चौथी बार सरकार बनाने की जुगत में बीजेपी..

 

चौथी बार छत्तीसगढ़ में सरकार बनाने की जुगत लगा रही भारतीय जनता पार्टी अब अपनी सरकार और संगठन के कामकाज की जानकारी सीधे जनता से जुटाएगी । इसके लिए पार्टी का महासंपर्क अभियान जून में शुरू हो रहा है । 

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी चौथी बार सरकार बनाने के लिए सीधे जनता से संपर्क स्थापित कर रही है. इस सिलसिले में बूथों तक कार्यकर्ताओं को भेजने के बाद अब जून में महासंपर्क अभियान चलाकर सरकार के कामकाज का फीड लिया जाएगा. ताकि खामियों को समय रहते दूर किया जा सके. ये फीडबैक कुछ सवालों पर आधारित रहेगा. मसलन गरीबों के लिए बनी योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं.

सड़क, बिजली, पानी, सफाई और राशन वितरण का क्या हाल है पार्टी के मंत्री और नेता आवेदन पर जो कार्रवाई करते हैं उससे लोग संतुष्ट हैं या नहीं. मंत्री और नेता जनता से मिलते हैं या नहीं. प्रशासन के कामकाज से कोई शिकायत तो नहीं है उनके वार्ड में किन सुविधाओं की ज्यादा जरूरत है और कार्यकर्ता योजनाओं का लाभ दिलाने मदद करते हैं या नहीं.

चौथी बार छत्तीसगढ़ में सरकार बनाने की जुगत लगा रही भारतीय जनता पार्टी अब अपनी सरकार और संगठन के कामकाज की जानकारी सीधे जनता से जुटाएगी । इसके लिए पार्टी का महासंपर्क अभियान जून में शुरू हो रहा है । 

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी चौथी बार सरकार बनाने के लिए सीधे जनता से संपर्क स्थापित कर रही है. इस सिलसिले में बूथों तक कार्यकर्ताओं को भेजने के बाद अब जून में महासंपर्क अभियान चलाकर सरकार के कामकाज का फीड लिया जाएगा. ताकि खामियों को समय रहते दूर किया जा सके. ये फीडबैक कुछ सवालों पर आधारित रहेगा. मसलन गरीबों के लिए बनी योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं.

सड़क, बिजली, पानी, सफाई और राशन वितरण का क्या हाल है पार्टी के मंत्री और नेता आवेदन पर जो कार्रवाई करते हैं उससे लोग संतुष्ट हैं या नहीं. मंत्री और नेता जनता से मिलते हैं या नहीं. प्रशासन के कामकाज से कोई शिकायत तो नहीं है उनके वार्ड में किन सुविधाओं की ज्यादा जरूरत है और कार्यकर्ता योजनाओं का लाभ दिलाने मदद करते हैं या नहीं.

महासंपर्क अभियान के दौरान भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी भी बूथों तक जाएंगेऔर कार्यकर्ताओं के कामकाज की भी जानकारी जुटाएंगे. भारतीय जनता पार्टी ने इस वर्ष हाईकमान के निर्देश पर पूरा फोकस गरीब कल्याण पर रखा है । जाहिर है पार्टी का इरादा उन गरीबों को भी अपने पाले में लाने का है जो बीजेपी को वोट कम ही देते हैं । अब देखना है इस कवायद का कितना फायदा चुनाव में मिलता है.

 

Trending News

Related News