भोपाल News

ग्राम उदय अभियान पर अलगे 14 दिनों तक प्रदेश सरकार का रहेगा फोकस

Last Modified - May 18, 2017, 12:07 pm

मध्य प्रदेश में अंबेडकर जयंती से शुरू हुए ग्राम उदय से भारत उदय अभियान पर अब अगले 14 दिनों में राज्य सरकार का फोकस रहेगा। नर्मदा सेवा यात्रा के समापन कार्यक्रम की तैयारी के चलते बीते 10 दिनों में इस अभियान पर अफसरों का ध्यान कम हो गया था. अभियान के समापन में 14 दिन बाकी हैं,  जबकि लाखों आवेदन निराकरण के लिए पेंडिंग हैं। ऐसे में कांग्रेस भी सरकार से सवाल पूछ रही है.

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के शुरुआती 32 दिनों में आईं कुल शिकायतों की स्थिति से पता चलता है कि हर रोज गांवों में  81 हजार व्यक्तिगत या फिर सामूहिक तौर पर दिए गए आवेदनों के जरिए कार्रवाई की मांग की गई. लेकिन अभी तक अभियान वो रफ्तार नहीं पकड़ पाया. साथ ही शिकायतों और परेशानियों के अंबार के पीछे हड़ताल भी कारण माना जा रहा है. 

क्योंकि अभियान शुरू होने के साथ ही पंचायत सचिव, सरपंच, पटवारी, राजस्व निरीक्षक, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी तथा बिजली कम्पनियों में संविदा और आउटसोर्स पर काम करने वाले कर्मचारी हड़ताल पर चले गए थे। जिससे पंचायतों में अभियान के दौरान मिलने वाली सुविधाओं पर असर पड़ा. सरकार के मंत्री अब अभियान में तेजी की बात कह रहे हैं।

ग्राम उदय अभियान वहां ज्यादा कमजोर रहा. जहां से नर्मदा सेवा यात्रा गुजरी. जिसमें विंध्य क्षेत्र के उमरिया, अनूपपुर, शहडोल, मंडला और डिंडौरी शामिल हैं। ऐसे में विपक्ष इस अभियान को फ्लॉप शो बता रहा है। अब जब नर्मदा यात्रा का समापन हो गया है तो तमाम जिलों के बड़े अधिकारी अभियान के काम में तेजी लाने पर फोकस करेंगे. साथ ही सरकार के साथ बीजेपी के नेता भी अब ग्रामोदय अभियान को सफल बनाने में दमखम लगा रहे हैं।

Trending News

Related News