News

मूवी रिव्यू: पाइरेट्स ऑफ द कैरिबियन-5

 

फिल्म- पाइरेट्स ऑफ द कैरिबियन-5

स्टारकास्ट-  जॉनी डेप, हैवियर बरडेम, काया स्कोडेलिरियो, केविन मेकनली निर्देशक- यॉकिम रॉनिंग, इस्पिन सैंडबर्ग

 

पाइरेट्स ऑफ दे कैरेबियन श्रृंखला की पांचवी फिल्म में जैक्स स्पैरो यानी जॉनी डेप के मुंह से अरशद वारसी के मज़ेदार डॉयलॉग सुनने के लिए और डिज्नी की करामाती समुद्री दुनिया के 3डी दर्शन देखने को मिलेगा. 

कहानी-

सीरीज की इस फिल्म की कहानी समुद्र में मरे हुए ऐसे लोगों के इर्द-गिर्द घूमती है जो धरती पर नहीं आ सकते। सीरीज की पिछली फिल्म में दर्शक देख चुके हैं कि लुटेरा विल टर्नर मर गया है, वहीं विल इस फिल्म में अपनी एक अलग 'मौत की सेना' बनाकर वापसी करता है। इस फिल्म का सबसे पसंदीदा और हिट किरदार कैप्टन जैक स्पैरो इस फिल्म में फैंस को कुछ बदला हुआ नजर आ रहा है। बेशक फिल्म में जैक हर दम शराब के नशे में धुत रहता है लेकिन उसका दिमाग बहुत तेज है जो किसी भी खतरे को पहले से भांप जाता है। जॉनी डैप ने इस बार अपने शराबी किरदार को निभाने के लिए शूटिंग से पहले जमकर होमवर्क किया। मौत की सेना किस तरह समुद्र में जहाजों का विनाश करने के लिए उनका पीछा करती है, इसे फिल्म में जबर्दस्त ढंग से दिखाया गया है। वहीं, समुद्र में खजाने की तलाश के साथ-साथ समुद्र के देवता पोसाइडन के त्रिशूल की तलाश से भी जुड़ी है जिसमें हर क्षण में आपको एक नया रोमांच देखने को मिलता है। 

फिल्म के कुछ सीन्स खासकर समुद्री जहाज पर गिद्धों का अटैक और मौत की सेना द्वारा हमले के कई सीन्स बच्चों को डरा सकते हैं तो वहीं अगर आप इस फिल्म को पूरी तरह इंजॉय करना चाहते हैं तो फिल्म को 3D थिअटर में ही देखने जाएं। जैक की टीम के साथ भूतों की सेना के ऐक्शन सीन्स का जवाब नहीं। वैसे फिल्म आइमेक्स तकनीक में भी है लेकिन दिल्ली-एनसीआर में फिल्म 2D और 3D तकनीक में ही रिलीज़ हुई है। फिल्म की शूटिंग ऑस्ट्रेलिया में की गई तो फिल्म के विजुअल इफेक्ट कंप्यूटर ग्राफिक्स का जवाब नहीं। इस बार भी पूरी फिल्म कैप्टन जैक स्पैरो के इर्द-गिर्द घूमती नजर आती है। कैप्टन कुछ सीन्स में आपको हंसाते हैं तो कई बार डराने का काम भी करते हैं। वहीं हैवियर बरडेम ने कैप्टन सैलजार के किरदार में अच्छी ऐक्टिंग की है। अगर आप ऐक्शन फैंटसी फिल्मों के शौकीन हैं और आपने सीरीज की पिछली फिल्में देखी हैं तो इस पांचवी फिल्म को मिस करने की कोई वजह नहीं बनती।

जबर्दस्त डायलॉग्स के बावजूद इस बार जैक के किरदार में एक कप्तान वाली बुद्धिमानी, तेजी और चपलता नहीं है। उन्होंने इस फिल्म में सिर्फ शराब पीकर मसखरी और मस्ती की है। फिल्म के अंत में वह हीरो बनकर नहीं उभरते। उनकी जगह करीना और हेनरी के किरदारों में ज्यादा दमखम नजर आता है। विलेन सालाजार के रूप में जेवियर बारडेम ने भी अच्छा काम किया है। पाइरेट थीम बैकग्राउंउ म्यूजिक हमेशा से इस सिरीज की जान रहा है और हमेशा की तरह इस दफा भी वह अपना असर दिखाता है। इस वीकेंड हल्का-फुल्का मनोरंजन चाहते हैं, तो जाइए, समुद्री लुटेरों के इस हैरतअंगेज सफर का हिस्सा बनिये।

Trending News

Related News