रायपुर News

गरियाबंद: मशहूर नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. पुनीत गुप्ता ने सुपेबेड़ा में किडनी के मरीजों की जांच की

Last Modified - June 15, 2017, 12:14 pm

गरियाबंद के सूपेबेड़ा में किडनी रोग के शिकार होने वाले मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच मशहूर नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. पुनीत गुप्ता गांव पहुंचे और शिविर में लोगों की जांच की। 60 लोगों की जांच के बाद 9 संदिग्धों में किडनी रोग होने की आशंका है।

वहीं गांव में बिगड़ती स्थिति को देखते हुए सांसद चंदूलाल साहू ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को चिट्ठी लिखकर डॉक्टरों की केंद्रीय टीम गांव भेजने की मांग की है। वहीं स्वास्थ्य विभाग के संचालक आर प्रसन्ना ने भी गरियाबंद जिला अस्पताल में लापरवाही बरतने वाले अफसरों को जमकर फटकार लगाई। 

गरियाबंद जिले के सुपेबेड़ा गांव में लगे स्वास्थ्य शिविर में लोगों की जांच कर रहे ये हैं छत्तीसगढ़ के मशहूर नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. पुनीत गुप्ता। जिन्होंने मेकाहारा की पूरी टीम के साथ गांव के 60 संदिग्ध मरीजों की जांच की। इनमें से 9 संदिग्धों को किडनी रोग होने की आशंका में सोनोग्राफी और एक्स-रे कराया जा रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक गांव के लोगों को क्यों ये बीमारी हो रही है, कहना मुश्किल है। 

गांव में मरीजों की बढ़ती संख्या देखकर महासमुंद सांसद चंदूलाल साहू ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को चिट्ठी लिखकर डॉक्टरों की केंद्रीय टीम गांव भेजने की मांग की है। इधर, स्वास्थ्य विभाग के संचालक आर प्रसन्ना ने भी गरियाबंद जिला अस्पताल का निरीक्षण कर मामले में लापरवाही बरतने वाले अफसरों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने स्टोर कीपर, BMO और हॉस्पिटल अटेंडेंट को नोटिस जारी कर 10 दिन में पूरी व्यवस्था ठीक करने की बात कही। 

डॉक्टरों की टीम के गांव से लौटते ही 45 और संदिग्ध मरीज शिविर में पहुंचे। आपको बता दें कि सुपेबेड़ा गांव में प्रदूषित पानी पीने की वजह से पिछले पांच साल में 30 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं पिछले दो महीने में ही करीब 100 मरीज ऐसे मिले हैं, जो खराब पानी पीने के बाद किडनी रोग के शिकार हुए हैं। 

 

Trending News

Related News