News

मूवी रिव्यू: ट्यूबलाइट

Last Modified - June 24, 2017, 1:49 pm

 

फिल्म- ट्यूबलाइट

स्टारकास्ट- सलमान खान, सोहेल खान, ओम पुरी, मोहम्मद जीशान, मातिन रे तांगुं, जू जू 

निर्देशक- कबीर खान

 

बड़े शोर शराबे के साथ सलमान खान की फिल्म ट्यूबलाइट रिलीज हो चुकी है और क्रिटिक्ट से फिल्म को कोई खास रिस्पॉन्स नहीं मिला है. वहीं फिल्म को दर्शकों से मिला जुला रिस्पॉन्स मिल रहा है. लेकिन अपनी फिल्म पर खुद सलमान खान ने क्या कहा ये जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे.

जी हां. तो सुना आपने सलमान खान ने फिल्म ट्यूबलाइट के जरिए साल 2017 में अपना खाता खोला है. फिल्म को करीब 5500 स्क्रीन्स पर रिलीज किया गया था. वहीं ओपनिंग डे पर फिल्म को अच्छी शुरूआत मिली है. लेकिन दर्शक फिल्म देखकर उतने खुश नहीं हुए. ये मुंबई के दर्शकों का रिएक्शन हैं. जिसे देखकर आप याकिन कर सकते हैं इस बार सलमान का मैजिक काम नहीं किया. जैसा की दर्शकों ने उम्मीद थी. ऐसा इसलिए भी क्योंकि सलमान खान की फिल्मों में ज्यादातर लोग एक्शन और मारधाड़ की उम्मीद करते हैं और सलमान का अचानक इस तरह इमोशनल फिल्मों की तरफ मुड़ना फैन्स को डिसअपाइंट कर गया है. फिल्म के पहले दिन करीब 40 करोड़ रुपए की कमाई करने की उम्मीद की जा रही थी. लेकिन फिल्म ने सिर्फ 25 करोड़ रुपए तक का आकड़ा ही छुआ है.

ऐसे में सलमान की पिछली 10 फिल्मों ने 100 करोड़, 200 करोड़ और 300 करोड़ का आंकड़ा छुआ है. लेकिन इस बार ट्यूबलाइट वैसा कमाल कर पाएगी या नहीं इस पर लगातार संदेह बना हुआ है. वहीं क्रिटिक्स और समीक्षकों ने भी फिल्म को अच्छे रिव्यू नहीं किए हैं. उन्होंने ट्यूबलाइट को एक दो या तीन स्टार्स से ज्यादा नहीं मिले हैं वहीं एक बड़ा वर्ग है जो फिल्म देखकर आया है उसका यही मानना है कि ट्यूबलाइट में उन्हें फिल्म में वो सुल्तान और बजरंगी भाईजान वाला मैजिक देखने को नहीं मिला है. वैसे आपको बतादेंकि सलमान की फिल्म काफी कम ओपनिंग मिली है. लेकिन ऐसा कोई नया नहीं इनकी फिल्मों को अक्सर शुरूआत में धीमी ओपनिंग मिलती है और बाद में फिल्म जबरदस्त कमाई करती है. यही बात शायद सलमान खान भी जानते हैं और इसलिए उन्होंने अपनी फिल्म को लेकर तुंरत भी मीडिया से बात की.

 

कहानी: फिल्म की कहानी 1962 के भारत- चीन युद्ध के बैकड्रॉप में कुमायूं के एक कस्बे जगतपुर में रहने वाले बच्चे लक्ष्मण सिंह बिष्ट (सलमान खान) की है, जिसे उसके साथी उसकी बेवकूफाना हरकतों के चलते ट्यूबलाइट कहकर पुकारते हैं। 

फिल्म के शुरुआती सीन में गांधी जी लोगों को को उपदेश देते नजर आते हैं, 'अगर मुझे यकीन है, तो मैं वह काम भी कर सकता हूं, जो करने की ताकत मुझमें नहीं है।' शायद इसी यकीन की बदौलत डायरेक्टर कबीर खान ने भी अमेरिकी फिल्म लिटिल बॉय की हिंदी अडप्टेशन में सलमान खान को साइन कर लिया, लेकिन वह भूल गए कि जिस चीज पर उन्हें यकीन है, जरूरी नहीं कि उस पर दर्शकों को भी यकीन होगा। जहां असल फिल्म लिटिल बॉय में एक बच्चा युद्ध में गए अपने पिता को वापस लाने की कोशिश करता है वहीं यहां सलमान खान युद्ध में गए अपने छोटे भाई सोहेल खान को वापस लाने की कोशिशें करते नजर आते हैं। पहले एक भोंदू बच्चे और फिर एक भोंदू आदमी के रोल में सलमान के फैंस उन्हें हजम नहीं कर पाते। 

शुक्रवार सुबह फिल्म रिलीज हुए और दिनभर सिर्फ एक ही चर्चा आम थी कि क्या ट्यूबलाइट चलेगी. क्या वो रोशनी दे पाएगी. जिसकी उम्मीद सलमान खान और कबीर खान लगाकर बैठे हैं. भई शाम तक तो सलमान खान के पास भी क्रिटिक्स और पब्लिक रिव्यू की बातें पहुंच चुकी थीं. जिससे कहीं न कहीं सलमान  भी थोड़ा घबरा गए हैं. सलमान ने शाम को ही मीडिया के सामने आकर बातचीत की. जरा देखिए सलमान ने क्या कुछ कहा. फिल्म को लेकर. सलमान ने कहा है कि उन्हें याकिन था कि उनकी फिल्म को स्टार्स कम मिलेंगे.

लेकिन जब सलमान से ये पूछा गया कि पब्लिक से फिल्म को मिला-जुला रिस्पॉन्स मिल रहा है तो इस पर क्या कहना है  तो सलमान ने तुरंत जवाब दिया कि उनकी फिल्म लोंडों लपाड़ों के लिए नहीं है. ये एक फैमिली फिल्म है ईद रिलीज है फिल्म इमोशनल लोगों के लिए है.

 

Trending News

Related News