सिवनी News

टॉयलेट में दफ्तर..

Last Modified - July 11, 2017, 9:53 am

कहते हैं कि स्कूल शिक्षा का मंदिर होता है. जहां छात्रों की हर सांस में संस्कारों को रोपा जाता है। लेकिन हम आपको एक ऐसे स्कूल लिए चलते हैं, जहां प्रिंसिपल साहब ने छात्रों को तो कमरों में बिठा दिया। लेकिन खुद के लिए एक ऐसे कमरे को दफ्तर बना लिया, जो पहले टॉयलेट था। जी हां, प्रिंसिपल साहब ने यूरिन पॉट के ऊपर लकड़ी की पटिया बिछाई और उस पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के साथ भारतमाता की तस्वीरें भी धर दी। जरा देखिए ये रिपोर्ट। 

मध्यप्रदेश के सिवनी जिले के घंसौर इलाके का ये वो सरकारी हाईस्कूल है, जिसके भीतर की तस्वीरें दिखाने में हमें भी शर्म आ रही है। जी हां, इस स्कूल के प्रिंसिपल ने किया ही कुछ ऐसा है कि उसे साफ-साफ टीवी पर दिखाने में कई लोगों का अपमान भी हो जाएगा। जी हां, पहाड़ी के इस सरकारी स्कूल में प्रिंसिपल साहब ने टॉयलेट रूम को ही अपना दफ्तर बना लिया। 

यूरिन पॉट को बांटने वाली पत्थर पर लकड़ी की एक पटिया बिछाई और ऊपर रख दी राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और भारतमाता की तस्वीरें। अब ऐसा करने के पीछे प्रिंसिपल साहब का तर्क भी सुन लीजिए। जी हां, वे कहते हैं कि छात्रों के लिए जगह होनी चाहिए, हमारा क्या है, हम तो कहीं भी बैठ जाएंगे। कुछ ऐसा ही तर्क है इन साहब का, जो स्कूल पालक शिक्षक संघ के अध्यक्ष हैं। 

अब जब ये बात इलाके के सांसद और केंद्रीय मंत्री को पता चली, तो वे भड़क उठे और प्रिंसिपल को बेवकूफ करार दे दिया। अब जब मंत्रीजी ने कह दिया है, तो यूरिन पॉट पर आदरणीयों की तस्वीरें लगाने वाले प्रिंसिपल पर कार्रवाई भी हो जाएगी। लेकिन ये तस्वीरें सवाल उठाती हैं कि 'शिव'-राज में आखिर शिक्षा व्यवस्था है कैसीऔर क्या है सरकारी स्कूल का हाल..?

 

Trending News

Related News