News

छग : नक्सल मुक्त हुआ ये क्षेत्र

Last Modified - August 3, 2017, 8:40 pm

माओवादियों के दरभा डिवीजन में ओड़िशा सीमा से लगे इलाके पर अब पुलिस का फोकस होगा, करीब 70 किलोमीटर की घने जंगलों और ऊंची पहाड़ियों से घिरा ओड़िशा के मलकानगिरी जिले का इलाका माओवादियों के लिए नया अबूझमाड़ माना जाता रहा है, ..तकरीबन 200 स्क्वायर किलोमीटर का जंगल जिसमें उड़ीसा और बस्तर दोनों का क्षेत्र शामिल है, यहां माओवादियों ने अपना घर बना रखा था और बस्तर के कांगेर नेशनल पार्क, दरभा के अधिकांश इलाके में पुलिस ने अपना कब्जा जमा लिया है, इन इलाकों में नये कैंप खोलने की तैयारी है और मोबाइल टावर के साथ सड़के बनाकर ऑपरेशन जोन ओड़िशा के मलकानगिरी जिले से लगे सरहदी इलाकों में चलाया जाएगा।

खास बात यह है, कि साल 2013 से 15 के बीच इसी इलाके में 54 से अधिक जवानों और आम लोगों की मौत नक्सल हमले में हुई थी, पर इसके बाद पुलिस ने उस इलाके में दबाव बनाना शुरु किया और अब यह इलाका लगभग नक्सल मुक्त माना जाता है, पिछले 2 सालों में इस इलाके में एक भी नक्सली वारदात सामने नहीं आई है।.

दरभा डिवीजन में प्रमुख रूप से राष्ट्रीय राजमार्ग-30 का इलाका आता है, जिसमें सबसे ज्यादा नक्सल वारदातें होती रही हैं. और ओड़िशा सीमा नजदीक होने की वजह से माओवादी अक्सर दूसरे राज्य में घटनाओं को अंजाम देकर निकल भागते हैं, पुलिस ने इसी वजह से राष्ट्रीय राजमार्ग को सुरक्षित करने के बाद इस इलाके में ऑपरेशन चलाना शुरू किया है।

 

Trending News

Related News