News

ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है मौत: सिद्धार्थनाथ सिंह, स्वास्थ्य मंत्री

Last Modified - August 12, 2017, 6:55 pm

 

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि गोरखपुर मेडिकल कालेज में ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई है। वह मेडिकल कॉलेज में अधिकारियों की बैठक के बाद संवाददाताओं से वार्ता कर रहे थे। लेकिन मंत्री भले ही आक्सीजन की कमी से हुई मौतों की बात को नकार रहा हो लेकिन अस्पताल प्रशासन से जुड़े पत्राचार से एक दूसरी ही तस्वीर सामने आ रही है। इनमें से दो पत्र ऐसे हैं जो अस्पताल प्रशासन के दावों की पोल खोलने को पर्याप्त हैं।

स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस हादसे को लेकर बेहद गंभीर है और उन्होंने आदेश दिया है कि जो भी दोषी होगा उसको छोड़ा नहीं जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि नौ जुलाई को मुख्यमंत्री खुद बीआरडी मेडिकल कालेज गए थे और उन्होंने वहां अधिकारियों और डॉक्टरों के साथ बैठक भी की थी। इसके बाद वह नौ अगस्त को दोबारा वहां गए थे लेकिन किसी भी अधिकारी या डॉक्टर ने ऑक्सीजन की कमी की जानकारी उनको नहीं दी ।इसके पीछे जिसकी लापरवाही है उसको छोड़ा नहीं जाएगा पूरे मामले की जांच करते हुये कठोर कार्यवाई की जायेगी 

मेडिकल कालेज के नेहरू अस्पताल में पुष्पा सेल्स कंपनी द्वारा लिक्विड आक्सीजन की सप्लाई की जाती है। कंपनी ने एक अगस्त को ही पत्र लिखकर आक्सीजन की सप्लाई न करने की चेतावनी दे दी थी। साथ ही पिछले बकाया का भुगतान करने के बाद ही कंपनी ने आक्सीजन सप्लाई करने की बात कही थी।

उधर बीते गुरुवार को दिन में ही यह साफ हो चुका था कि जिस लिक्विड आक्सीजन पर सौ बेड के इंसेफ्लाइटिस वार्ड व दूसरे आइसीयू में भर्ती मरीजों की सांसें टिकी हुई हैं वह लगभग खत्म हो चुका था। इसकी भी जानकारी हो गई थी कि विकल्प के रूप में जितने आक्सीजन सिलेंडर की जरूरत है वे सीमित संख्या में हैं। यह भी सबकी जानकारी में था कि संवेदनशील स्थिति बाल रोग विभाग के वार्डों की है जहां बड़ी तादाद में इंसेफ्लाइटिस के मरीज भर्ती हैं। खुद सेंट्रल आक्सीजन पाइप लाइन के आपरेटरों ने बाल रोग के विभागाध्यक्ष को पत्र लिखकर दिन में ही इस संकट से आगाह कर दिया था। पत्र से साफ है कि तीन अगस्त को भी लिक्विड आक्सीजन के स्टाक की समाप्ति की जानकारी दी गई थी।

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News