रायपुर News

मंत्री अजय चंद्राकर के खिलाफ बदसलूकी का मामला, HC ने मांगा जवाब

पंचायत मंत्री अजय चंद्राकर के खिलाफ बदसलूकी के आरोप के मामले में बिलासपुर हाईकोर्ट ने रायपुर के तत्कालीन आईजी जीपी सिंह, एडिशनल एसपी राकेश कुमार, टीआई सुरेश पौराणिक समेत पांच पुलिस अधिकारियों को जवाब देने को कहा है। इन सभी पर याचिकाकर्ता मनजीत कौर बल ने आरोप लगाया है कि इन्होंने फरार आरोपी कमल कांत तिवारी का बयान लिया और उसे जाने दिया। याचिका में कमल कांत तिवारी को गिरफ्तार करने की मांग की है। दरअसल रायपुर की मंजीत कौर बल ने पंचायत मंत्री अजय चंद्राकर पर बदसलूकी का आरोप लगाया था। इसमें कोर्ट ने रायपुर पुलिस को जांच करने को कहा था.

इसके बाद साल 2013 में जब IG जीपी सिंह ने शासकीय अधिकारी कमल कांत तिवारी का बयान लिया. तो उन्होंने बदसलूकी की घटना से इनकार कर दिया और मंजीत के आरोपों को झूठा बताया। इस आधार पर पुलिस ने कोई केस नहीं बनाया। जिसके बाद मनजीत कौर ने हाईकोर्ट में एक याचिका लगाकर कहा कि जिस समय कमलकांत का बयान लिया गया. उस समय वो राज्यपाल के फर्जी हस्ताक्षर कर जाली प्रमाण पत्र जारी करने और उसके जरिए नौकरी लगाने का आरोपी था.. ऐसे में उसका बयान लेकर जाने देना अपराधी को प्रश्रय देना है. लिहाजा जीपी सिंह समेत सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाए। याचिका में कमल कांत को अब भी पुलिस रिकॉर्ड में फरार लेकिन दुर्ग में नौकरी करना बताकर उसकी भी गिरफ्तारी की मांग की गई है. इस मामले में अगली सुनवाई चार सप्ताह बाद होगी।

Trending News

Related News