News

बकरीद पर कटेंगे केक..

 

 

बेज़ुबान जानवरों पर हो रही क्रूरता के बीच RSS से जुड़े मुस्लिम संगठन राष्ट्रीय मुस्लिम मंचन ने बकरीद पर जानवरों की कुर्बानी का विरोध है. मुस्लिम मंच के यूपी और उत्तराखंड के संयोजकों ने मुसलमानों से अपील की है कि वे बकरीद पर बेज़ुबान जानवरों का कत्ल न करें, बल्कि केक काटकर सांकेतिक तौर पर बकरीद मनाएं.

यूपी-उत्तराखंड के मुस्लिम मंच के प्रमुख राजा रईस खान ने कुरान और हदीस का हवाला देकर कहा, 'कहीं भी बकरीद पर किसी भी बेजुबान जानवर की कुर्बानी को हमारे पैगंबर ने नहीं कहा है. हमारे किसी पैगंबर ने किसी जानवर की कोई कुर्बानी नहीं की है बल्कि रहमत बरती है.'

बकरीद कुछ ही दिन बाद है, ऐसे में राष्ट्रीय मुस्लिम मंच की यह मुहिम एक सियासी मुद्दा बन सकती है. राजा रईस के मुताबिक जिस कुर्बानी का हवाला देकर बकरीद में जानवरों को काटा जाता है वो कभी हुआ ही नहीं. ये कुर्बानी तो रहमत का पर्व है, जहां कुर्बानी के बाद भी जिंदगी मिली है. खुद रसूल ने जब अपने बेटे की कुर्बानी देनी चाही तो अल्लाह ने उसे जिंदगी बख्शी. इसी प्रकार बकरीद के दिन बेजुबान पशुओं का बेहिसाब कत्ल कहीं से जायज नहीं है.

मुस्लिम मंच ने गाय की कुर्बानी को इस्लाम के खिलाफ बताते हुए कहा कि कुरान में गाय काटने पर पाबंदी है. गाय पर तो हमारे हुजूर ने भी बंदि‍श लगा रखी है. मुस्लिम मंच के प्रमुख ने बाकायदा रसूल की ज़िन्दगी, कुरान और हदीस के आईने में बताया कि जानवरों और पशु-पक्षियों पर रहमत की बात की गई है तो फिर बेज़ुबान जानवरों का आस्था के नाम पर कत्ल क्यों हो?

 

Trending News

Related News