News

विश्व पर्यटन दिवस : चित्रकोट जलप्रपात जाने पर मिलती है नई ऊर्जा, क्या आप गए हैं?

 

 

आज विश्व पर्यटन दिवस है। हम पर्यटन को विभिन्न रूपों में देखते हैं। बायो टूरिज्म, मेडिकल टूरिज्म, एज्युकेशनल टूरिज्म, एडवन्चर टूरिज्म, इको टूरिज्म, माइस्ट टूरिज्म आदि। हालांकि इन सभी पर्यटन यात्राओं का मकसद मन को एक से दूसरे स्थान पर ले जाना और खुद को नई-नई चीजों से परिचित कराना है। हमें पर्यटन स्थलों से नई संस्कृति, नए सौहार्द और नई ऊर्जा मिलती है। वैसे भारत तो हमेशा से ही पर्यटन का केन्द्र रहा है और “अतिथि देवो भव” तो हमारी प्राचीन परंपरा रही है। वहीं छत्तीसगढ़ की बात करें तो यह प्रदेश अपनी संपन्न आदिवासी परंपराओं के साथ पर्यटन स्थलों का धनी रहा है। यहां की संस्कृति, आदिवासी रीति रिवाज, कई पौराणिक मंदिर और जलप्रपात लोगों का ध्यान आकर्षित करते हंै। ऐसा ही छत्तीसगढ़ का एक पर्यटन स्थल है.... चित्रकोट जलप्रपात ।

जानिए आपके लिए क्या.क्या संजोए बैठा है बुंदेलखंड का समृद्ध इतिहास

चित्रकोट जलप्रपात 

जगदलपुर से 40 कि.मी. और रायपुर से 273 कि.मी. की दूरी पर स्थित यह जलप्रपात छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा, सबसे चैड़ा और सबसे ज्यादा जल की मात्रा प्रवाहित करने वाला जलप्रपात है। यहां इंद्रावती नदी का जल प्रवाह लगभग 90 फुट ऊंचाई से नीचे गिरता है। सधन वृक्षों एवं विध्य पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य स्थित इस जल प्रपात से गिरने वाली विशाल जलराशि पर्यटकों का मन मोह लेती हैं भारतीय नियाग्रा के नाम से प्रसिद्ध चित्रकोट वैसे तो प्रत्येक मौसम में दर्शनीय है, परंतु बरसात के मौसम में इसे देखना रोमांचकारी अनुभव होता है। बारिश में ऊंचाई से विशाल जलराशि की गर्जना रोमांच और सिहरन पैदा कर देता है। चित्रकोट जलप्रपात के आसपास घने वन है, जो कि उसकी प्राकृतिक सौंदर्यता को और बढ़ा देती है। 

भागदौड़ भरी जिंदगी और प्रदूषण से मुक्त है मुन्नार....

मुख्यमंत्री रमन सिंह भी मानते हैं कि चित्रकोट जलप्रपात छत्तीसगढ़ के खूबसूरत पर्यटन स्थलों में से एक है, मुख्यमंत्री ने ट्वीटर पर विश्व पर्यटन दिवस की बधाई देते हुए लिखा कि चित्रकोट छत्तीसगढ़ के खूबसूरत पर्यटन स्थलों में से एक है यहाँ आकर मुझे हमेशा ताजगी महसूस होती है। अर्जुन सिंह, आईबीसी24 वेब डेस्क

छत्तीसगढ़ में आपकी पसंदीदा जगह कौन सी है ? हमें कमेंट बाॅक्स में लिखकर बताएं

 

Trending News

Related News