भोपाल News

गैंगरेप की गलत रिपोर्ट का मामला, सुल्तानिया अस्पताल का अधीक्षक सस्पेंड

Last Modified - November 14, 2017, 2:03 pm

भोपाल में गैंगरेप की पीड़िता की गलत रिपोर्ट बनाने के मामले में सुल्तानिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ करण पिपरे को सस्पेंड किया गया है. मामले में तीन डॉक्टर्स पर कार्रवाई की गई है. डॉ करण पिपरे, डॉक्टर खुशबू और डॉ संयुक्ता के खिलाफ एक्शन लिया गया.

ये भी पढ़ें- गैंगरेप की रिपोर्ट में जबरदस्ती को बना दिया सहमति

ये भी पढ़ें- IBC24 पर इस वक्त की बड़ी ख़बर

आपको बता दें जो रिपोर्ट तैयार किया गया था वो बेहद हैरान करने वाली थी. रिपोर्ट में न सिर्फ शाब्दिक गलती थी बल्कि ये भी लिखा गया है कि जो हुआ पीड़िता की मर्जी से हुआ. इस खुलासे के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है.

 

ये भी पढ़ें- सूर्यास्त के बाद अब संचालित नहीं होगा स्कूल, फरमान जारी

'वो उसे नाले में लेकर गए और उसके बाद में उसकी सहमति और इच्छा से शारीरिक रिश्ते बनाए'

कुछ ऐसे शब्दों में लिखी गयी भोपाल गैंगरेप पीड़िता की पहली मेडिकल रिपोर्ट. इस रिपोर्ट ने केस के नरेटिव को ही  उलट पलटकर रख दिया लापरवाही की हद देखिये रिपोर्ट में जबरदस्ती को सहमति बना दिया गया.

ये भी पढ़ें- रेणु जोगी कोटा के कांग्रेस सीट से ही चुनाव लड़ेंगी

IBC24 के पास मौजूद इस मेडिकल रिपोर्ट में महज यहीं कमी नहीं है बल्कि रिपोर्ट का पहला शब्द ही हैरानी भरा है. जिसमें लिखा है. ऐज पर एक्यूज्ड यानी आरोपी के मुताबिक. मतलब ये कि पीड़िता को यहां आरोपी बताया जा रहा है. 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News