News

भोरमदेव अभ्यारण्य को मिला टाइगर रिजर्व का अनुमोदन

Last Modified - November 14, 2017, 4:01 pm

राज्य वन्य जीव बोर्ड की दसवीं बैठक में भोरमदेव अभ्यारण्य को टाइगर रिजर्व घोषित करने के प्रस्ताव को हरीझंडी दिखा दी गई है, इसके लिए कोर और बफर क्षेत्र निर्धारित करने के लिए  प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया. यह प्रस्ताव अब राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (नेशनल टाइगर कन्जर्वेशन अथॉरिटी) नई दिल्ली को भेजा जाएगा। प्रस्ताव के अनुसार भोरमदेव टाइगर रिजर्व का कुल क्षेत्रफल लगभग 624 वर्ग किलोमीटर होगा। इसमें से 318 वर्ग किलोमीटर कोर क्षेत्र और 305 वर्ग किलोमीटर बफर क्षेत्र होगा। कान्हा किसली टाइगर रिजर्व से लगे हुए भोरमदेव अभ्यारण्य का पर्यावरण टाइगर रिजर्व के लिए अनुकूल है।

छत्तीसगढ़ के तीन अधिकारियों को आईएफएस अवार्ड

 इससे प्रदेश में पर्यावरण आधारित  ईको पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। भोरमदेव टाइगर रिजर्व देश का 51वां टाइगर रिजर्व होगा। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में उनके निवास में आयोजित बैठक में अचानकमार टाइगर रिजर्व में ग्राम सुरही में टाइगर सफारी का प्रस्ताव तैयार करने की सहमति प्रदान की गई। इससे अचानकमार टाइगर रिजर्व में पर्यटकों का मूवमेंट भी बढ़ेगा | 

Trending News

Related News