News

एक दिन के लिए कलेक्टर बनी आस्था तो निधि ने चुनी एक दिन की विधायकी

Last Modified - November 15, 2017, 12:48 pm

बाल दिवस के अवसर पर एक और जहां पुरे प्रदेश के स्कूलों में कई विभिन्न आयोजन किए गए, वहीं हरदा जिले में बाल अधिकारों के समर्पित एक स्वयं सेवी संस्था सिनर्जी ने सात दिवसीय कार्यक्रमों का आयोजन किया है। जिसके तहत मंगलवार को नगर की 2 बेटियों को क्रमशः एक दिन कलेक्टर और एक दिन विधायक बनकर उनके साथ कार्य करने का अवसर प्रदान किया गया। चयनित लड़कियां खुद को मिले इस अवसर पर बहुत ही खुश नजर आई और उन्होंने इस अवसर को बाल-दिवस का सबसे बेहतर उपहार बताया। 

यहां परंपरा के नाम पर 15 दिनों तक होती है निर्वस्त्र लड़कियों की पूजा

हरदा कलेक्टर अनय द्विवेदी के साथ एक दिन कलेक्टर बनी कक्षा आठवीं की छात्रा आस्था मालवीय ने अपनी प्राथमिकताएं गिनाते हुए शासकीय स्कूली बच्चों के लिए शिक्षा के बेहतर अवसर उपलब्ध कराए जाने, स्कूलों में पेयजल के माकूल इंतजाम किए जाने पर जोर दिया, वही महिला सुरक्षा के मुद्दे पर और अधिक ध्यान दिए जाने पर जोर दिया, इस दौरान कलेक्टर बनी आस्था ने कलेक्टर द्विवेदी के साथ साप्ताहिक जान सुनवाई में हिस्सा लेते हुए आवेदनों पर कलेक्टर के साथ अपनी सहमति जताते हुए सांकेतिक ढंग से आदेश पारित किए

दुगनी उम्र के लड़के से प्यार कर बैठी 20 साल की युवती, फिर ये हुआ

वहीं दूसरी और हरदा विधायक डॉ. आरके दोगने के साथ एक दिन विधायक बनी निधि शर्मा ने अल सुबह विधायक निवास पर जाकर पहले आम लोगों से मुलाकात की इसके बाद आवश्यक संदेश पत्रों पर विधायक दोगने के साथ हस्ताक्षर भी किए, दोपहर के समय मंे विधायक के साथ जिला अस्पताल में दौरा कर निधि ने मधुमेह शिविर में शिरकत करते हुए, आमजनों से मुलाकात की, वही नगर में स्थित शासकीय नपा नवीन विद्यालय का दौरा कर स्कूली छात्र-छात्राओं के साथ मुलाकात कर उन्हें खेल सामग्रियों का वितरण किया, उस दौरान उन्होंने छात्र-छात्राओं के साथ मध्यान्ह भोजन किया, भोजन के बाद विधायक बनी निधि ने सरकार से स्कूलों में परोसे जा रहे भोजन के स्तर में सुधार किए जाने हेतु पत्र लिखकर अवगत कराने का निर्णय लिया है। सिनर्जी संस्था की इस पहल को जिले भर से का सराहना प्राप्त हो रही है। 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News