News

इस गांव ने आज तक बिजली नहीं देखी, लेकिन बिल हर महीने आता है

Last Modified - November 21, 2017, 7:32 pm

नेताओं को खुश करने के लिए अधिकारी क्या-क्या करते हैं...इसकी बानगी लोरमी से 10 किलोमीटर दूर बसे कांछीकछार गांव में देखने को मिला है...जहां अधिकारियों की चापलूसी का खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। विकास का दंभ भरने वाली सरकार के प्रदेश में आजादी के 70 साल बाद भी एक गांव में आज तक बिजली नहीं पहुंची है। लेकिन अगर बात सिर्फ इतनी सी होती तो, कोई बात न होती। सुनने में शायद आपको अजीब लगे लेकिन जिस गांव में आज तक बिजली नहीं पहुंची, उस गांव में 2013 से बिजली बिल पहुंच रहा है।

छत्तीसगढ़ में महिला सुरक्षाकर्मी के लिए कौन बनाएगा टॉयलेट

लोरमी ब्लॉक मुख्यालय से महज 10 किलोमीटर दूर बसे कांछीकछार गांव में आज तक बिजली तो नहीं पहुंची, लेकिन बिजली बिल समय-समय पर लोगों के पास पहुंचता रहता है। ग्रामीण जो पांच किलोमीटर दूर दूसरे गांव में मोबाइल चार्ज कराने जाते हैं उसके लिए विभाग बिजली बिल भेज रहा है। दरअसल 2 मई को प्रदेश के मुख्यमंत्री लोकसुराज अभियान के तहत गांव में आने वाले थे, तो आनन-फानन में अधिकारियों ने गांव में बिजली के खंभे लगा दिए। लेकिन जैसे ही पता चला कि..मुख्यमंत्री का दौरा रद्द हो गया। खंभे पर तार लगाये बिना ही अधिकारी वहां से निकल लिए।

तांबे के बर्तन में भरे मिले चांदी के सिक्के, रहस्य सुलझाने में जुटी पुरातत्व विभाग

महीनों बीत गए इस दौरान वे बिजली के तार लगाना और बिजली देना तो भूले लेकिन बिल भेजना नहीं भूले। अब जब मीडिया ने उन्हें तार लगाने की याद दिलाई तो उन्होंने वहीं आश्वासन की गुगली हमारी ओर फेंक दी। साहेब आपके नॉलेज में तो हमने ला दिया है देखते हैं कितने दिनों में आप इस पर कार्रवाई करते हैं। फिलहाल ग्रामीण लालटेन की रोशनी में बल्ब की चमक का इंतजार कर रहे हैं। 

 

IBC24

Trending News

Related News