News

केंद्रीय जांच दल ने किसानों से जाना सूखे का कारण

Last Modified - November 21, 2017, 8:40 pm

जिले में सूखे की स्थिति का जायजा लेने केन्द्रीय जांच दल के तीन सदस्य दुर्ग पहुचे,जांच दल में केन्द्रीय स्तर के जॉइंट सेक्रेटरी सहित अन्य दो अधिकारी और जिले के कलेक्टर सहित तमाम अधिकारी भी सर्वेक्षण दल में मौजूद थे। दल ने जिले के 2 विकासखंडो दुर्ग और धमधा के कुछ गांव में पहुंचकर किसानों के साथ खेतों में जाकर खेती में नुकसान के विभिन्न कारणों के विषय पर चर्चा की। सूखे की स्थिति आखिर कैसे निर्मित हुई राज्य सरकार के द्वारा किसानों के खेतों को पानी देने के विभिन्न साधनों के बारे में और उन्हें सरकार से मिलने वाली योजनाओं के विषय पर भी चर्चा हुई।

अजीत जोगी की जातिगत पहचान हाईकोर्ट के पास सुरक्षित

सर्वेक्षण दल दुर्ग ब्लाक के गनियारी, खुरसुल, बोरई और धमधा ब्लाक के पोटिया, टेमरी और सेवती ग्राम पंचायतों के क्षेत्र में खेतों का जायजा लिया वहीं जिला प्रशासन के अधिकारियों से भी उनके द्वारा किसानों को दिए जा रहे योजनाओं की भी जानकारी लेकर किसानों से चर्चा करते हुए उन्हें वास्तविक स्थिति में प्रशासन के अमले से मदद मिलने की भी जानकारी ली है। किसानों ने सुखा पड़ने के विभिन्न कारणों का खुलकर चर्चा करते हुए शिकायत और मांग भी जांच दल के केन्द्रीय दल के सामने रखी जिसे दुर्ग कलेक्टर उमेश अग्रवाल ने अपने अधिकारियों से जानकारी लेकर दुरस्त करने के भी आश्वासन किसानो को दिए।

इस गांव ने आज तक बिजली नहीं देखी, लेकिन बिल हर महीने आता है

जांच दल ने भूमिगत जल स्तर के गिरावट और नहरों के माध्यम से किसानों को मिलने वाले सहायता की जानकारी भी अधिकारियो से मांगी। जांच दल ने खुरसुल के खेत में काम कर रही बालिका से चर्चा करते हुए फसल के बर्बादी की जानकारी ली जिसपर बालिका ने नुकसान की जानकारी अधिकारियों को दी वहीं अधिकारियों ने धान की बाली को भी सेम्पल के रूप में अपने साथ ले गए। जांच दल ने दुर्ग और धमधा विकासखंड के 6 ग्राम पंचायत क्षेत्रांे में दौरा करने के बाद धमधा विकासखंड के ग्राम पंचायत सेवती में खुले में चैपाल लगाकर किसानों और अधिकारियांे से चर्चा की।

छत्तीसगढ़ में महिला सुरक्षाकर्मी के लिए कौन बनाएगा टॉयलेट

वहीं कुछ ग्राम पंचायत के किसानों ने अपने क्षेत्र में आये जांच दल के द्वारा बिना जांच किये निकल जाने की भी बात कही, किसानों ने यह भी बताया की भूमिगत जल स्तर का गिरावट के साथ समय पर बिजली के कटौती के कारण भी पानी की उप्लाब्द्धता नहीं हो पाई जिसके कारण भी सिचित खेती वाले किसानों को भी नुकसान का सामना करना पड़ा है।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News