News

गूगल ने डूडल बना कर इस भारतीय महिला को किया गौरवान्वित

Last Modified - November 22, 2017, 9:19 am

ब्रिटिशकाल में भारत की पहली महिला डॉक्टर का अभ्यास करने वाली डॉ रुखमाबाई राउत को गुगल ने डूडल बनाकर श्रद्धांजलि दी है. डॉ रुखमाबाई का आज 153वां जन्मदिन है.  

ये भी पढ़ें- पृथ्वी को भारी पड़ सकता है साल 2018

रुखमाबाई राउत ब्रिटिश भारत के सबसे शुरुआती अभ्यास करने वाली डॉक्टरों में से एक थी वह भी उस समय के दौरान जब महिलाओं के लिए अधिकार, विशेष रूप से भारतीय महिलाओं को मुश्किल से ही कभी किसी प्रकार दिया जाता था.

ये भी पढ़ें- भारतीय मूल के दलवीर भंडारी दोबारा बने ICJ, प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर दी बधाई

रुखमाबाई राउत का जन्म मुंबई में  22 नवंबर, 1864 को हुआ था. उनकी शादी महज 11 वर्ष की उम्र में 'दादाजी भिकाजी' (19), से हो गई थी. उस समय भारतीयों में बाल विवाह आम बात थी.

ये भी पढ़ें- शीत सत्र में ट्रिपल तलाक को खत्म करने के लिए विधेयक लायेगी मोदी सरकार

रूखमाबाई की मां ने भी बाल विवाह को झेला था. जब वह 14 साल की थी, तब उनकी शादी कर दी गई थी, 15 साल की उम्र में उन्होंने रुखमाबाई को जन्म दिया और सिर्फ 17 साल की उम्र में वह विधवा हो गई. रूखमाबाई अपने विवाह के बाद अपने पति के साथ नहीं रहती थीं, रूखमाबाई ने अपने माता-पिता के घर में ही रह कर अपनी पढ़ाई जारी रखी. रुखमाबाई ने जल्द ही एक बड़ा फैसला लिया कि वह दादाजी के साथ विवाह संबंध में नहीं रहना चाहतीं हैं.

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News