भोपाल News

बीजेपी 'एक बूथ दस यूथ' के भरोसे तो कांग्रेस के खेवइया बने बावरिया

Last Modified - November 22, 2017, 4:30 pm

मध्य प्रदेश बीजेपी के ''एक बूथ दस यूथ'' का मुकाबला करने के लिए कांग्रेस ने भी तैयारी कर ली है. कांग्रेस बीजेपी को जवाब देने के लिए एक ही ब्लॉक में चार लेवल पर कमेटियां बना रही है. कांग्रेस प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया का ये कॉन्सेप्ट केरल प्रभारी रहने के दौरान भी आलाकमान ने देखा है.

ये भी पढ़ें- उज्जैन: महाकुंभ में VIP पास से हुई आय की आधी राशि पुजारियों को मिलेगी

इस कॉन्सेप्ट के कारण केरल में हार-जीत का अंतर भी महज़ 1 से डेढ़ फीसदी तक आ गया था. लिहाज़ा कांग्रेस को उम्मीद है कि इस बार कांग्रेस अपने इसी बूथ मैनेजमेंट के सहारे एमपी का किला फतह करेगी।

ये भी  पढ़ें- मध्यप्रदेश में करंट के लिए देना होगा 12% ज्यादा दाम

मध्यप्रदेश कांग्रेस अब केरल कांग्रेस के फॉर्मेट मंडलम कमेटियों को अपना रही है. फिलहाल मंडलम कमेटियों का काम 90 फीसदी तक पूरा भी हो चुका है. प्रभारी बावरिया का ये कॉन्सेप्ट केरल में प्रभारी रहने के दौरान उम्मीद से काफी बेहतर रहा था. 

ये भी पढ़ें- गोडसे की मूर्ति हटाने पर हिंदूमहासभा ने किया प्रदेशव्यापी आंदोलन का ऐलान

दरअसल बूथ मैनेजमेंट के इस फॉर्मेट में. एक बूथ कमेटी में 10 मेंबर होंगे जो सेक्टर कमेटी को रिपोर्ट करेंगे. एक सेक्टर कमेटी में 10 बूथ होंगे, जो मंडलम कमेटी को रिपोर्ट करेंगे. 30 से 40 सेक्टर कमेटियों पर एक मंडलम कमेटी होगी..जो ब्लॉक कमेटी को रिपोर्ट करेगी. ब्लॉक कांग्रेस कमेटी सभी मंडलम कमेटियों की रिपोर्ट जिला कांग्रेस कमेटी को सौपेंगी. कांग्रेस संगठन के नेताओं का कहना है कि वो अपने तगड़े बूथ मैनेजमेंट के जरिए भाजपा को शिकस्त देंगे।

ये भी पढ़ें- गूगल ने डूडल बना कर इस भारतीय महिला को किया गौरवान्वित

कांग्रेस की इस कवायद पर बीजेपी नेताओं का दावा है कि कांग्रेस की मंडलम कमेटियों से बीजेपी को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। कांग्रेस की नयी व्यवस्था के मुताबिक गठित होने वाली मंडलम कमेटियां विधानसभा क्षेत्र तक ही सीमित रहेंगी.

ये भी पढ़ें- पृथ्वी को भारी पड़ सकता है साल 2018

इसमें मौजूदा ब्लॉक की संख्या 565 से बढ़कर 750 के करीब हो जाएगी. अभी तक ब्लॉक अध्यक्ष के पास ही बूथ की जिम्मेदारी होती थी. हालांकि नयी व्यवस्था के बाद कुछ बदलाव ज़रूर होंगे. और इस बदलाव में कांग्रेस को उम्मीद कामयाबी की है।

 

नवीन कुमार सिंह, IBC24, भोपाल

Trending News

Related News