भोपाल News

मुन्नी के लिए बजरंगी भाईजान बना किन्नर समाज

Last Modified - November 22, 2017, 4:55 pm

आइये अब आपको ले चलते हैं अशोकनगर के कदवाया गांव में हुई एक खास शादी में. ये खास इसलिए है क्योंकि किन्नर परिवार न केवल अनाथ लड़की का सहारा बना. बल्कि उसकी शादी का पूरा खर्च उठाया. अपने घर से शादी की सभी रस्में पूरी कीं. देखिए ये रिपोर्ट

ये भी पढ़ें- विधवा मां की तीन बेटियां एक साथ बनी आईएएस

ये भी पढ़ें- महिला की पिटाई, कपड़े फाड़े, फिर चोटी काटी

हल्दी से पीले किए जा रहे दुल्हन के हाथ और उसके बाद शादी समारोह की तस्वीरें बेहद खास हैं. दरअसल ये शादी अशोकनगर जिले की ईसागढ़ तहसील के कदवाया गांव में हुई है. ये खास इसलिए क्योंकि लड़की मुन्नी की शादी किन्नर परिवार कर रहा है. किन्नर भावना यादव, नेहा और काजल ने अपने घर से ही शादी की सभी रस्में पूरी कीं. 

ये भी पढ़ें- गूगल ने डूडल बना कर इस भारतीय महिला को किया गौरवान्वित

इसके पीछे भी एक कहानी है. दरअसल मुन्नी की मां का 5 साल पहले देहांत हो गया था. पिता भी उसे छोड़कर कहीं अज्ञात जगह चला गया. ऐसे में किन्नरों ने मुन्नी को आसरा दिया और अब उसके रिश्तेदारों की मदद से योग्य वर की तलाश कर उसकी शादी कराई. शादी का पूरा खर्च भी किन्नर भावना और उसकी दोनों साथियों ने वहन किया है। अब जब इनकी बेटी मुन्नी विदा हुई तो ये बेहद भावुक हैं. और दूसरे किन्नरों से गरीबों की मदद की अपील भी कर रहे हैं। 

शादी की रस्मों के बीच घर में खुशनुमा माहौल भी रहा।  मुन्नी को लगा ही नहीं कि जैसे उसके मां-बाप उसके पास नहीं हैं।मुन्नी ने बताया कि वे 4 बहने हैं और उन्हें दुख में देखकर किन्नर मौसियों ने आसरा दिया और आज उसे इस बात की खुशी है कि मां-पिता न होने के बाद भी उनकी कमी महसूस नहीं होने दी।

जो जिए अपनी खुशी के लिए तो क्या जिए. जो जिए दूसरों की खुशी के लिए. तो जिंदगी गुलशन हो गई. कुछ ऐसा ही फसलफा दिया है किन्नन भावना और उनकी साथियों ने.

ये भी पढ़ें- केन्द्रीय कैबिनेट का फैसला, 15वें वित्त आयोग को मंजूरी

अनाथ बच्ची को सहारा दिया. पाला-पोसा. योग्य वर की तलाश कर अब उनके हाथ पीले कर दिए. इन्होंने न केवल मानवता की मिसाल पेश की है.. बल्कि जिंदगी की असली खुशियों का मतलब भी समझाया है।

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News