रायपुर News

शिक्षाकर्मियों पर सरकार की सख्ती, काम पर नहीं लौटे तो होंगे बर्खास्त

Created at - November 23, 2017, 8:57 am
Modified at - November 23, 2017, 8:57 am

रायपुर। शिक्षाकर्मियों के हड़ताल का आज चौथा दिन है. सरकार ने शिक्षाकर्मियों को सख्त हिदायत दी है कि अगर शिक्षाकर्मी तीन दिन के अंदर नहीं लौटे तो उन्हें बर्खास्त कर दिया जाएगा. 

ये भी पढ़ें- मुन्नी के लिए बजरंगी भाईजान बना किन्नर समाज

स्कूलों में ताला लगाकर छत्तीसगढ़ के करीब एक लाख 80 हजार शिक्षाकर्मी तीसरे दिन भी हड़ताल पर रहे। जिससे ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में तालाबंदी के ही हालात बन गए हैं। यही वजह है कि सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में पदस्थ पंचायत संवर्ग के शिक्षक को तीन दिन के भीतर स्कूल नहीं लौटे.

 

ये भी पढ़ें- बीजेपी 'एक बूथ दस यूथ' के भरोसे तो कांग्रेस के खेवइया बने बावरिया

तो उन्हें बर्खास्त किया जाएगा। हालांकि ये आदेश उन परिवीक्षाधीन और स्थानांतरित शिक्षकों के लिए है, जो 20 नवंबर से अनाधिकृत रूप से हड़ताल पर हैं। साथ ही ग्राम पंचायत को 12 वीं पास स्थानीय युवकों को पढ़ाने के लिए बुलाया गया है।

ये भी पढ़ें- विधवा मां की तीन बेटियां एक साथ बनी आईएएस

ये नारे... ये प्रदर्शन... पिछले तीन दिनों से छत्तीसगढ़ के हर जिले में हो रहे हैं। स्कूलों में ताला लगाकर प्रदेश भर के करीब एक लाख अस्सी हजार शिक्षाकर्मी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गए हैं। हालांकि सरकार दावा कर रही है कि स्कूलों में असर नहीं पड़ा है.

लेकिन ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में पिछले तीन दिनों से तालाबंदी के ही हालात है। यही वजह है कि उसे तीसरे दिन शाम होते-होते ये आदेश जारी करना पड़ा कि ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में पदस्थ पंचायत संवर्ग के शिक्षक को तीन दिन के भीतर स्कूल नहीं लौटे, तो उन्हें बर्खास्त किया जाएगा।

ये भी पढ़ें- डाॅल्फिन स्कूल घोटाले में पुलिस ने कोर्ट में पेश किया 2005 पन्नों का चालान

हालांकि ये आदेश उन परिवीक्षाधीन और स्थानांतरित शिक्षकों के लिए है, जो 20 नवंबर से अनाधिकृत रूप से हड़ताल पर हैं। पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग ने सभी जिला पंचायतों और जनपद पंचायतों के CEO को इस आशय का आदेश जारी किया है। इसके साथ ही सभी अफसरों को स्कूलों में पढ़ाई के वैकल्पिक इंतजाम के निर्देश दिए गए हैं। 

ये भी पढ़ें- विजय भाटिया को क्यों मिला स्पेशल पॉवर, जाने क्यों घबराई पुलिस ?

जिसके तहत ग्राम पंचायत को 12 वीं पास स्थानीय युवकों को पढ़ाने के लिए बुलाया गया है। जिन्हें जिला जिला पंचायत के CEO की ओर से इस काम के लिए अनुभव प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। मध्यान्ह भोजन व्यवस्था पर कोई असर न हो, इसके लिए सरपंच, सचिव और स्व-सहायता समूहों से सहयोग लेने की बात कही गई है। हालांकि तमाम कोशिशों के बाद भी सरकार और शिक्षाकर्मियों के बीच बात नहीं बन रही है। 

ये भी पढ़ें- वाड्रफनगर बन जाएगा वासुदेवनगर, सीएम रमन ने किया ऐलान

अगले साल चुनाव भी होने वाले हैं, लिहाजा सभी विपक्षी दलों के नेता शिक्षाकर्मियों के शुभचिंतक बनकर बड़े-बड़े वादे कर रहे हैं। बिलासपुर में शिक्षाकर्मियों के धरनास्थल पहुंचे जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के सुप्रीमो अजीत जोगी ने कहा कि यदि 2018 में उनकी सरकार बनेगी तो दूसरे ही दिन शिक्षाकर्मियों की सभी मांगे मान ली जाएंगी। 

ये भी पढ़ें- शराब की लत में बॉलीवुड की स्टार्स

सरकार की सुलह की कोशिशों और नोटिस की धमकियों के बाद भी शिक्षाकर्मियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल को जारी रखने की बात कही है। जाहिर है स्कूलों में स्थिति आने वाले दिनों में और भी खराब होगी। 

 

वेब डेस्क, IBC24 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News