News

नोटबंदी, जीएसटी का असर खत्म और बढ़ेगी ग्रोथ रेट-अरुण जेटली

Last Modified - December 1, 2017, 11:46 am

दिल्ली। सवा साल बाद आर्थिक मोर्चे पर अच्छी ख़बर ने गुजरात विधानसभा चुनाव से ऐन पहले भाजपा सरकार को संजीवनी का काम किया है। मार्च 2016 में जीडीपी 9.2 फीसदी थी, जिसके बाद से इसमें लगातार गिरावट आती जा रही थी। जून 2017 पहुंचते-पहुंचते जीडीपी 5.7 फीसदी तक गिर चुकी थी। हर तिमाही में गिरती जीडीपी एक ओर जहां नरेंद्र मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर सवाल खड़ा कर रही थी, वहीं विपक्ष खासकर कांग्रेस के लिए हमले का हथियार भी बनी हुई थी। ऐसे मुश्किल वक्त में जुलाई-सितंबर तिमाही की ग्रोथ रेट में बढोतरी की खबर से सरकार और सत्तापक्ष के चेहरे खिल गए हैं। नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी 5.7 प्रतिशत से बढ़कर 6.3 प्रतिशत हो गई है। 

मूडीज रेटिंग में अर्थव्यवस्था का सुधरा मूड, मोदी सरकार गदगद

आठ अहम सेक्टर्स में से तीन माइनिंग, बिजली-गैस जैसी यूटिलिटी सर्विसेज़ और ट्रेड-होटल-ट्रांसपोर्ट क्षेत्र में विकास दर बढ़ी है। हालांकि कृषि, मैनुफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन, फाइनेंशियल सर्विसेज, डिफेंस व पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन जैसे 5 सेक्टर्स में ग्रोथ रेट में अभी भी गिरावट दर्ज की गई है। इसके बावजूद 2017 की तीनों तिमाही में सबसे बेहतर विकास दर हासिल करने पर केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली गदगद हैं।

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि नोटबंदी और जीएसटी का असर अब खत्म हो गया है। आने वाले समय में ग्रोथ रेट और बढ़ेगी। दूसरी ओर, पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा कि ग्रोथ रेट बढ़ना अच्छी बात है, लेकिन यह नरेंद्र मोदी सरकार के वादे से अभी भी बेहद कम है।

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News