रायपुर News

'समान काम-समान वेतन क्या होता है, सरकार इनसे निपटने को तैयार'

Last Modified - December 3, 2017, 11:32 am

रायपुर। शिक्षा के अधिकार कानून में समान काम. समान वेतन का भले ही स्पष्ट जिक्र किया गया हो, लेकिन छत्तीसगढ़ के पंचायत और स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर का कहना है, कि समान काम-समान वेतन क्या होता है, ये उन्हें समझ में नहीं आता। आगे उन्होंने ये भी कहा कि प्रोफेसर से लेकर शिक्षाकर्मी तक ये मांग उठाते हैं, लेकिन कोई समझाए तो मैं भी समझूं..?

ये भी पढ़ें- शिक्षाकर्मियों पर सख्ती, बूढ़ातालाब और ईदगाहभाठा में धारा 144 लागू

ये भी पढ़ें- बंदिशों के बावजूद 15 हजार से ज्यादा शिक्षाकर्मियों ने किया प्रदर्शन

अपने विभाग की 14 साल की उपलब्धियां गिनाने के दौरान चंद्राकर ने शिक्षाकर्मियों के संविलियन की मांग को भी सिरे से नकार दिया। चंद्राकर के मुताबिक रविवार को शिक्षाकर्मी उनसे मुलाकात करने वाले हैं और स्थिति हद से बाहर हुई तो सरकार इससे निपटने के लिए तैयार है।

ये भी पढ़ें- जांजगीर में अर्द्धवार्षिक परीक्षा निरस्त, हजारों शिक्षाकर्मी नज़रबंद

अजय चंद्राकर ने ये भी कहा, कि स्वच्छता, रोजगार के साथ ही ग्रामीण स्वास्थ और खाद्यान्न सुरक्षा में छत्तीसगढ़ ने देशभर में नाम कमाया है। अब सरपंच अविश्वास प्रस्ताव से नहीं हटाए जा सकेंगे। हालांकि उन्होंने माना, कि प्रदेश में डॉक्टरों की बहुत कमी है और जागरुकता के अभाव में स्वास्थ की चुनौतियां बरकरार हैं। चंद्राकर ने मेकाहारा को PGI में बदलने को अपना ड्रीम प्रोजेक्ट बताया।

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News