News

सस्ते कर्ज का जारी इंतजार, ग्रोथ रेट अनुमान 6.7 बरकरार –रिजर्व बैंक

Last Modified - December 6, 2017, 4:27 pm

दिल्ली। जैसा कि अनुमान लगाया जा रहा था रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। रेपो रेट 6 फीसदी पर स्थिर है और सीआरआर भी 4 फीसदी ही है। 

कमेटी ने बहुमत से दरों में बदलाव नहीं करने का पक्ष लिया, हालांकि रविंद्र ढोलकिया इसमें चौथाई फीसदी की कटौती चाहते थे। अगर ये कटौती होती तो ग्राहकों को सस्ते कर्ज मिलने का मार्ग प्रशस्त हो जाता, लेकिन रेट में कोई परिवर्तन नहीं होने से सस्ते कर्ज का इंतजार जारी है। हम आपको बता दें कि 2 अगर्सत को रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कमी की थी। नोटबंदी के कारण बैंकों में जमा रिकॉर्ड रकम को देखते हुए उस वक्त ये अंदाजा लगाया गया था कि अगली घोषणा में रेट में और कटौती की जा सकती है। माना जा रहा है कि महंगाई दर को देखते हुए रिजर्व बैंक ने रेट में कटौती नहीं करने का फैसला लिया है।सस्ते कर्ज से आम लोगों को जहां होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन सस्ता मिल जाता है, वहीं उद्योग जगत को भी कम लागत में राशि मिल जाती है। इस तरह सुस्त पड़े बाज़ार में रौनक के आसार बनते हैं। 

रिजर्व बैंक ने जीडीपी ग्रोथ की अनुमानित दर का अपना पिछला अनुमान 6.7% ही कायम रखा। रिजर्व बैंक के मुताबिक वित्त वर्ष 2018 में देश की जीडीपी 6.7 प्रतिशत की दर से बढ़ सकती है। रिजर्व बैंक ने दूसरी छमाही में में महंगाई दर 4.3 से 4.6 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है।

 

हालांकि फरवरी में सस्ते कर्ज की सौगात मिल सकती है, जैसा कि आरबीआई गवर्नर ने संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा है कि हाल के दिनों में उठाए गए आर्थिक कदमों से विकास दर बढेगी।

 

Trending News

Related News