News

मोदी को नीच कहने पर मणिशंकर ने माफी मांगी, राहुल, लालू ने फटकारा

Last Modified - December 7, 2017, 7:25 pm

दिल्ली। कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ की गई अपनी टिप्पणी पर माफी मांगनी पड़ी है। मणिशंकर अय्यर ने एक बयान में प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ नीच शब्द का इस्तेमाल किया था, जिसके बाद से वे लगातार निशाने पर थे। खुद प्रधानमंत्री ने गुजरात में चुनाव सभा में मणिशंकर अय्यर की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि उन्हें एक बुद्धिमान कांग्रेस नेता के मुझे नीच कहने पर कुछ नहीं कहना है। ये कांग्रेस की सोच है, उनकी अपनी भाषा है। जनता इसका जवाब वोट के जरिये देगी।

इधर दिल्ली में भी भाजपा नेताओं ने मणिशंकर अय्यर के बयान को लेकर कांग्रेस की जमकर आलोचना की। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि ये सोच बताती है कि सिर्फ एक परिवार ही इस देश पर शासन कर सकता है और अगर कमजोर तबके का कोई व्यक्ति प्रधानमंत्री बनता है तो ये उसे सिर्फ चायवाला या नीच कहकर बुलाएंगे।

गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं और पहले चरण के मतदान के लिए आज ही चुनाव प्रचार थमा है। ऐसे में मणिशंकर अय्यर के इस बयान से होने वाले संभावित नुकसान को भांपते ही कांग्रेस में खलबली मच गई। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मणिशंकर अय्यर को फटकार लगाई और कहा कि भाजपा और PM ने कांग्रेस पर हमला करते हुए अक्सर अभद्र भाषा का प्रयोग किया है। कांग्रेस की संस्कृति और विरासत अलग है। श्री मणिशंकर अय्यर ने भारत के प्रधानमंत्री के लिए जिस लहजे और भाषा का प्रयोग किया है वह गलत है। कांग्रेस और मैं चाहते हैं कि वो अपने बयान के लिए माफ़ी मांगे।

 

इसके बाद मणिशंकर अय्यर का माफीनामा आया, अय्यर ने कहा कि नीच शब्द से उनका मतलब निम्न स्तर से है, जब मैं हिंदी में बोलता हूं तो भी मैं अंग्रेजी में सोचता हूं और हिंदी मेरी मातृभाषा नहीं है। इसलिए अगर कोई इसे दूसरे अर्थ में देखता है तो मैं माफी मांगता हूं। 

मणिशंकर अय्यर ने अपनी माफी में ये भी कहा कि नीच शब्द को अलग-अलग तरीके से प्रयुक्त किया जा सकता है और मेरा आशय कभी भी प्रधानमंत्री की जाति से नहीं था। अगर इससे जाति का भी अर्थ निकलता है तो मैं इसके लिए माफी मांगता हूं। मैं कांग्रेस का एक साधारण कार्यकर्ता हूं और कभी मुझसे गुजरात में चुनाव अभियान के लिए कहा तक नहीं गया, ऐसे में मेरी टिप्पणी को लेकर इतना हंगामा क्यों हो रहा है?

खास बात ये है कि मणिशंकर अय्यर को न सिर्फ भाजपा और खुद अपनी पार्टी से, बल्कि विवादित बयानों और नरेंद्र मोदी के धुर विरोधी राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव से भी फटकार मिली। लालू प्रसाद यादव ने मणिशंकर अय्यर के बयान पर अपनी टिप्पणी में कहा कि वो अपना मानसिक संतुलन खो बैठे हैं।

बहरहाल, मणिशंकर अय्यर के माफी मांगने से ये विवाद थमने वाला नहीं दिख रहा है क्योंकि गुजरात विधानसभा चुनाव में जहां राहुल गांधी प्रधानमंत्री के खिलाफ हमलों में उनकी नीतियों, कदमों और उपलब्धियों को निशाना बना रहे थे, वहीं मणिशंकर अय्यर की इस टिप्पणी को भाजपा नरेंद्र मोदी के खिलाफ व्यक्तिगत हमले के रूप में पेश कर गुजरात का अपमान बताने में जुट गई है।

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News