News

अपहरण, फिरौती और खौफ की ऐसी दास्तां आपने पहले कभी नहीं पढ़ी होगी !

Last Modified - December 10, 2017, 11:33 am

ग्वालियर घर के बाहर खेल रहा ढाई साल का बच्चा अचानक लापता हो गया। परिजन ने अपने स्तर पर उसकी तलाश शुरू की। लेकिन स्थिति उस समय गंभीर हो गई जब बच्चे के दादा के मोबाइल पर उसके अपहरण की बात बताते हुए फिरौती तैयार रखने के लिए कॉल आया। कॉल आते ही परिजन बहोड़ापुर थाने पहुंचे। पुलिस का दबाव बढ़ते देख अपहरणकर्ता बच्चे को महाराजबाड़ा पोस्ट ऑफिस के पास छोड़ भाग गए। बच्चे को लावारिस देख लोगों ने उसे पुलिस चैकी पहुंचाया। जंहा पुलिस ने बच्चे को बरामद कर लिया। अब पुलिस नंबर की जांच पड़ताल में जुट गई है।

बच्ची को थाने ले गए स्कूल वाले, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान !

दरसअल बहोड़ापुर थाना क्षेत्र स्थित उरवाई गेट सिंधिया नगर निवासी कमल सिंह राजपूत कृषि सामग्री बनाने वाली प्राइवेट कंपनी में कर्मचारी हैं। घर के पास ही एमबी इंटरनेशनल स्कूल में कमल की पत्नी चेताली पढ़ाने जाती हैं। इसी स्कूल में उनका बेटा शिवांश भी पढ़ता है। शनिवार दोपहर 11.30 बजे वह बच्चे को स्कूल से लेकर घर आए। मां व पिता अपने-अपने काम में व्यस्त हो गए। इस दौरान बच्चा बाहर खेलने लगा। कुछ देर बाद देखा तो वह नहीं था। इसके बाद बच्चे की तलाश शुरू की लेकिन वह नहीं मिला। तभी दोपहर एक बजे बच्चे के दादा दिनेश सिंह राजपूत के मोबाइल पर अनजान नंबर से कॉल आया। कॉल करने वाले अपहरणकर्ता ने कहा कि शिवांश को हमने किडनैप कर लिया है।

यहां लड़कियों से संबंध बनाने के लिए मां-बाप देते हैं पुरूषों को निमंत्रण !

पुलिस के पास गए तो बच्चे को मार देंगे। फिरौती चाहिए दो घंटे बाद फिर कॉल कर रकम और जगह बता दी जाएगी। इस तरह कॉल आने के बाद परिजन घबरा गए। उन्होंने तत्काल बहोड़ापुर थाने पहुंचकर सूचना दी। वीओ-वही परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने बच्चे के गायब होने और इस तरह की सूचना मिलने के बाद तत्काल बच्चे की तलाश शुरू की। बच्चे के घर पुलिस का आना-जाना और कार्रवाई देख अपहरण करने वाले घबरा गए। जिसके बाद शाम को 6 बजे बच्चा महाराज बाड़ा स्थित पोस्ट ऑफिस की सीढ़ियों पर बैठा मिला। उसके पास दो से तीन औरतें बैठी देखी गई थीं। जब यह औरतें चली गईं और बच्चा अकेला बैठा दिखा तब वहां मौजूद एक दुकान वाले ने उसे बाड़ा पुलिस चैकी तक पहुंचाया। इसके बाद परिजन को सूचना मिली। उनका बच्चा मिला गया है। 

आॅनलाइन रेप के आरोप में युवक को 10 साल की सजा, ऐसे बनाता था संबंध

वही पुलिस ने अपहरणकर्ताओं की तलाश शुरू कर दी थी उसी वक्त कोतवाली पुलिस उस नंबर की जांच कर रही है जिससे बच्चे के परिजन को कॉल आया था। फिलहाल वह बंद है। ट्रू कॉलर पर उसकी डिटेल गलत बताई गई है। अब कंपनी से उसकी डिटेल मांगी जा रही है। साथ ही बाड़े पर बच्चा कैसे पहुंचा इसके लिए वहां और उसके आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखी जा रही है।

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News