News

गुजरात चुनाव में पाकिस्तान की एंट्री, भारत ने दी नसीहत

Last Modified - December 11, 2017, 4:57 pm

वेब डेस्क। कांग्रेस के निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर के घर पाकिस्तान के पूर्व विदेशमंत्री और उच्चायुक्त के साथ बैठक के बारे में पूर्व सेनाध्यक्ष दीपक कपूर ने कहा है कि वे इस बैठक के हिस्सा थे और इसमें भारत-पाकिस्तान संबंधों के अलावा किसी अन्य मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई थी। सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह, पूर्व सेनाध्यक्ष दीपक कपूर, पूर्व राजनयिक सलमान हैदर, टीसीए राघवन, शरत सभरवाल और के. शंकर बाजपेयी मौजूद थे। बाजपेयी, राघवन और सभरवाल पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त भी रह चुके हैं।  ये बैठक एक बार फिर सुर्खियों में है क्योंकि गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मणिशंकर अय्यर पर निशाना साधते हुए कहा कि आखिर पाकिस्तानी उच्चायुक्त के साथ गुप्त बैठकें क्यों की गई थीं? आखिर क्यों इसके बाद पाकिस्तान के उच्च पदों पर बैठे लोग गुजरात में पटेल को सीएम बनाने के लिए सहयोग की पहल कर रहे हैं? 

प्रधानमंत्री के इस वक्तव्य के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने ट्वीट किया - ‘‘भारत को अपनी चुनावी बहस में पाकिस्तान को घसीटना बंद करना चाहिए और षड्यंत्र रचने के बजाय अपनी खुद की शक्ति के आधार पर चुनाव जीतने चाहिए.’’ 

 

फैसल के इस बयान पर भारत ने कड़ा एतराज जताया है, भारत ने कहा है कि हमें अपनी ताकत पता है, हमें किसी नसीहत की जरूरत नहीं है। 

 

 

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी पाकिस्तान के बयान पर कड़ी आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि भारतीय भारत के लोकतंत्र को स्वयं चलाने में समर्थ हैं जैसा कि वह करते आए हैं. भारत के प्रधानमंत्री एक चुनकर आए लोकप्रिय प्रधानमंत्री हैं और भाजपा भी लोकप्रिय है. भारत के चुनावी मामलों में किसी भी बाहरी दखलंदाजी पूरी तरह से नापसंद है.

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News