News

पाकिस्तान की चाल, कांच के दीवारों के बीच कराई कुलभूषण से परिजनों की मुलाकात

Last Modified - December 26, 2017, 8:40 am

इस्लामाबाद। सालों बाद अपने बेटे से एक माँ और उसकी पत्नी मुलाकात हुई. जीहां हम बात कर रहे हैं कुलभूषण जाधव की, भारी दबाव के बीच पाकिस्तान को कुलभूषण से उसके परिजनों को मिलने का मौका देना ही पड़ा लेकिन, पाकिस्तान ने यहां पर भी शातिराना पैंतरा खेला है. कुलभूषण और उसके परिजनों के बीच कांच की एक दीवार थे, वे दोनों एक दूसरे को देख सकते थे, सुन सकते थे. लेकिन दोनों एक दूसरे को स्पर्श नहीं कर सकते थे. 

 

आपको बता दें कि जासूसी के आरोप में पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव पाकिस्तान के जेल में बंद है.  उनके लिए भारत सरकार ने बार बार मिलने की मांग की थी उसके बाद बहुत मुश्किल से उन्हें सिर्फ एक दिन पाकिस्तान में रहने की इजाजत मिली थी. जबकि जाधव के परिवार के पास तीन दिन का वीजा था.

ज्ञात हो की पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव पर जासूसी, आतंकवाद फैलाने और देश के खिलाफ साजिश में शामिल होने का आरोप लगाकर मुकदमा चलाया था जिसमे एकतरफा सुनवाई और जबरिया इकबालिया बयान के आधार पर कुलभूषण जाधव को दोषी करार दिया गया था और उसे फांसी की सजा सुनाई गयी है।

पत्नी और माँ की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत ने यात्रा से पहले ही पाकिस्तान के सामने तीन शर्तों रखी थी जिसे पाकिस्‍तान के स्‍वीकार किया था उसके बाद ही भारत ने इस यात्रा को हरी झंडी दी गई. भारत ने मुख्य तौर पर यह बात रखी थी कि जब कुलभूषण की पत्नी और माँ पाकिस्तान में होंगे तो उनसे किसी भी तरह की पूछताछ नहीं की जाये। जब तक वे पाकिस्तान की सरजमी पर होंगे उनकी पूरी सुरक्षा का ध्यान पाकिस्तान को रखना होगा।

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News