News

सेक्यूलर का कोई माई-बाप नहीं, ये शब्द संविधान से हटाएंगे- अनंत कुमार हेगड़े

Last Modified - December 26, 2017, 4:20 pm

बैंगलुरू। अपने काम से कम और विवादित बयानों से ज्यादा सुर्खियां बटोरने वाले नरेंद्र मोदी सरकार के कौशल विकास राज्यमंत्री अनंत कुमार हेगड़े एक बार फिर चर्चा में हैं। कोप्पल जिले में ब्राह्मण युवा परिषद के एक कार्यक्रम में अनंत कुमार हेगड़े का ताजा बयान इन दिनों विवादों में है।

ये भी पढ़ें- रमन और शिवराज ने विजय रूपानी, नितिन पटेल से मिलकर दी बधाई

अनंत कुमार हेगड़े ने इस बयान में कहा  - ''अगर आप कहते हैं कि मैं एक मुस्लिम, ईसाई, लिंगायत, ब्राह्मण या हिंदू हूं तो ऐसे में हम अपने धर्म और जाति से जुड़े होने पर गर्व महसूस करते हैं। लेकिन ये सेक्युलर कौन लोग हैं? इनका कोई माईबाप नहीं।'' 

अनंत कुमार हेगड़े ने ये भी कहा- सेक्युलर लोग नहीं जानते कि उनका खून क्या है। हां संविधान यह कहने का अधिकार देता है कि हम सेक्यूलर हैं और कहेंगे भी। लेकिन संविधान में कई बार संशोधन हो चुका है, हम इसे भी हटाएंगे, इसलिए सत्ता में हैं।''

अनंत कुमार हेगड़े पर पहले भी इस्लाम को लेकर अपमानजनक टिप्पणी करने के मामले में मुकदमा दर्ज है। कर्नाटक सरकार की ओर से आयोजित टीपू जयंती में शामिल होने से इनकार करने को लेकर भी वे सुर्खियों में आए थे और भाजपा ने टीपू सुल्तान को हिंदू विरोधी बताकर विरोध प्रदर्शन भी किया था, हालांकि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जब कर्नाटक विधानसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए टीपू सुल्तान को एक ऐसा योद्धा करार दिया जो अंग्रेजों से लड़ते हुए ऐतिहासिक मौत को प्राप्त हुए, तो हेगड़े की जमकर किरकिरी भी हुई।

ये भी पढ़ें- पीओके में घुसकर भारतीय सेना ने तीन पाक सैनिकों को मार गिराया

2018 में कर्नाटक में विधानसभा चुनाव होने हैं और अभी वहां कांग्रेस सत्ता में है, जिसके मुख्यमंत्री सिद्धारमैया हैं। सिद्धारमैया ने हेगड़े को हिदायत दी है कि वे संविधान को पढ़ें क्योंकि जानकारी नहीं होने के कारण ही वो इस तरह के बयान दे रहे हैं।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News