News

छत्तीसगढ़: सेक्स सीडी कांड में पत्रकार विनोद वर्मा को मिली जमानत

Last Modified - December 28, 2017, 4:25 pm

कथित सेक्स सीडी मामले में पत्रकार विनोद वर्मा को जमानत मिल गई है। आरोपी विनोद वर्मा को सीबीआई कोर्ट ने एक लाख रूपए के मुचलके और एक लाख रूपए के बंद पत्र पर सशर्त जमानत दी है। दरअसल 26 दिसंबर को सीबीआई को इस पूरे मामले में चालान पेश करना था। बावजूद इसके सीबीआई ने अब तक इस मामले में चालान पेश नही किया था। विधि विशेषज्ञों के मुताबिक 7 दिन के अंदर चालान कोर्ट में पेश किया जाना था जिसे पेश करने में जांच एजेंसियां अब तक नाकाम रही हैं। इस सूरत में जब जांच एजेंसी अब तक चालान पेश करने में नाकाम रही कोर्ट ने विनोद वर्मा को जमानत दे दी। 

आपको बता दें 2 महीने पहले अचानक मंत्री राजेश मूणत की एक कथित सेक्स टेप के उजागर होने का मामला सामने आया था. इसके बाद इस मामले में गाजियाबाद से पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ्तारी हुई थी। छत्तीसगढ़ सरकार ने पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है. सीबीआई अब तक कई नेताओं और पत्रकारों से इस मामले में पूछताछ कर चुकी है।

CBI डेपुटेशन पर जा सकते है छत्तीसगढ़ के ये पुलिस अधिकारी...

इस मामले में पत्रकार विनोद वर्मा का पक्ष देख रहे हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा का कहना है कि नियमतः किसी भी मामले में 60 दिनों के अंदर चालान पेश किया जाना जरूरी होता है, अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो जिसके विरुद्ध चालान पेश किया जाना था वह खुद-ब-खुद जमानत का हकदार हो जाता है और इसी आधार पर विनोद वर्मा को जमानत मिली है।

शुक्र है, पाकिस्तान ने जाधव की मां के जूतों में बम होने की बात नहीं कहीं - सुषमा

सीनियर एडवोकेट सतीश चंद्र वर्मा ने बताया कि अब तक सीबीआई के काम करने का पैटर्न कुछ ऐसा ही रहा है। उसे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आरोपी को जमानत मिल रही है या नही। अपनी जांच पूरी करने के बाद ही सीबीआई कोर्ट में चालान पेश करेगी। आगे की कार्रवाई भी इसी बात पर निर्भर करेगी।

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News