News

इक्कीसवीं सदी के भारत के विकास पर गर्व करेगी दुनिया-नरेंद्र मोदी

Created at - January 9, 2018, 12:11 pm
Modified at - January 9, 2018, 12:11 pm

नई दिल्ली। पहले पीआइओ सांसद सम्मेलन में 23 देशों से दिल्ली आए हुए भारतीय मूल के 140 सांसदों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि इक्कीसवीं शताब्दी को दुनिया एशियाई सदी के रूप में देख रही है और इसमें भारत की अहम भागीदारी होगी। प्रधानमंत्री ने सम्मेलन में मौजूद सांसदों को संबोधित करते हुए कहा कि वे भारत की तरक्की पर गर्व महसूस करेंगे और इस तरह हमें और मेहनत के साथ काम करने की प्रेरणा देंगे, प्रोत्साहित करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सम्मेलन की शुरुआत करते हुए कहा कि वे विदेशों से आए भारतीय मूल के निवासियों का सवा सौ करोड़ देशवासियों की ओर से स्वागत करते हैं। इस तरह का सम्मेलन भारत में पहली बार हो रहा है और दुनिया के दूसरे देशों में भी ऐसा आयोजन इससे पहले नहीं देखा गया था। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीय मूल के लोग दुनिया भर के अलग-अलग देशों में लंबे समय से रह रहे हैं, सही मायनों में यही लोग भारत के स्थायी एंबेसडर हैं और यही कारण है कि मैं जहां कहीं भी जाता हूं, मेरी ये पूरी कोशिश होती है कि वहां रहने वाले भारतीय मूल के लोगों से मुलाकात करूं।

ये भी पढ़ें- पुलिस की दरियादिली: बच्चे को घुमाया मेला, की जमकर खातिरदारी

उन्होंने सम्मेलन में मौजूद भारतीय मूल के सांसदों और मेयरों से कहा कि आपने ये अनुभव किया होगा कि भारत के प्रति दुनिया का नजरिया बदल रहा है और आपने ऐसा इसलिए महसूस किया होगा क्योंकि भारत खुद बदल रहा है। नरेंद्र मोदी ने कहा कि दुनिया भर में फैले भारतीय मूल के लोगों को आज यहां एक साथ बैठे देखकर हमारे पूर्वज जहां कहीं भी होंगे, गौरवान्वित महसूस कर रहे होंगे।

ये भी पढ़ें- इंदौर बस हादसे के बाद जागी सरकार, बुलाई RTO और ARTO की बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत में लोगों की उम्मीदें काफी बढ़ गई हैं। भारत अब जैसा पहले था, वैसा ही चलता रहेगा, कुछ बदलने वाला नहीं है, की पुरानी सोच को पीछे छोड़ चुका है और इस सोच से काफी आगे बढ़ गया है। हर जगह बदलाव दिख रहा है और इसीलिए आकांक्षाएं उच्चतम स्तर पर पहुंची हुई हैं। रिफॉर्म टू ट्रांसफॉर्म हमारी नीति है और हमारी इस नीति को विश्व बैंक, आईएमएफ जैसी संस्थाएं सराहना कर रही हैं। 

ये भी पढ़ें- रतलाम में गंगा आरती जैसा नजारा, दीप यज्ञ में जले 1.21 लाख दीये

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सम्मेएलन में आए भारतीय मूल के सांसदों से कहा कि भारत प्रवासी भारतीयों को अपना साझेदार मानता है और नीति आयोग ने 2020 तक का जो एजेंडा बनाया है, उसमें प्रवासी भारतीयों को विशेष स्थान दिया है।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News