रायपुर News

जीरम केस में साजिश की कौन करेगा जांच? किसे दें सबूत?-भूपेश बघेल

Created at - January 10, 2018, 11:36 am
Modified at - January 10, 2018, 11:43 am

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने एक बार फिर जीरम घाटी की घटना की जांच को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने पूछा है कि सरकार की घोषणा के बावजूद अभी तक झीरम घाटी नक्सली हमले की सीबीआई जांच क्यों नहीं शुरू कराई गई है? भूपेश बघेल ने ट्वीट किया है कि छत्तीसगढ़ की डॉ. रमन सिंह सरकार इस मामले की सीबीआई जांच कराना ही नहीं चाहती, इसीलिए उसने इसकी अनुशंसा आर्थिक शाखा में की, जबकि आपराधिक शाखा में की जानी चाहिए थी।

ये भी पढ़ें- कार्तिक मर्डर केस: अवैध संबंध में अंधी मां ने प्रेमी से मिलकर की बेटे की हत्या

 

ये भी पढ़ें- रायगढ़:संजय मार्केट में आग से 100 दुकानें जलकर खाक,करोड़ों का नुकसान

भूपेश बघेल ने कहा कि झीरम घटना में आपराधिक जांच की जिम्मेदारी एनआईए को सौंपी गई थी। दूसरी ओर सुरक्षा कोताही की जांच के लिए न्यायिक आयोग का गठन हुआ था। अब एनआईए जांच पूरी हो चुकी है और न्यायिक आयोग आपराधिक षडयंत्र की जांच कर नहीं रहा है तो फिर साजिश पहलू की जांच करेगा कौन?  

ये भी पढ़ें- रायपुर: फर्जी बैंक अफसर बनकर युवक से पूछा OTP, 1 लाख की ठगी

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया कि पिछले दो-तीन साल में झीरम घटना से संबंधित कुछ जानकारियां छत्तीसगढ़ कांग्रेस को मिली हैं, लेकिन मुश्किल ये है कि जब जांच ही नहीं हो रही है तो फिर सबूत किसे दें?

ये भी पढ़ें- रायपुर: सामूहिक अवकाश पर 25000 स्वास्थ्यकर्मी, पद के अनुरूप वेतन की मांग

भूपेश बघेल ने आरोप लगाया कि जिस तरह से एनआईए के चालान में शीर्ष नक्सली नेताओं गणपति, रमन्ना आदि को मुलजिम नहीं बनाया और इतनी बड़ी घटना को स्थानीय स्तर पर प्लान कर अंजाम देना बता दिया, उससे साफ है कि सरकार की नीयत साफ नहीं है। 

 

ये भी पढ़ें- जेल में लालू यादव को चहेतों ने पहुंचाया चूड़ा, गुड़ और गर्म कपड़ा

भूपेश बघेल ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को चिट्ठी भी लिखी है, जिसमें इन पहलुओं की ओर ध्यान दिलाते हुए कहा है कि झीरम मामले की सीबीआई जांच नहीं कराए जाने को लेकर भ्रांतियां बढ़ रही हैं। बघेल ने मांग की है कि इस मामले की जांच सीबीआई की हाईलेवल टीम से कराई जाए, जिसपर अदालत की निगरानी हो। 

25 मई 2013 को झीरम घाटी में कांग्रेस नेताओं के काफिले पर हमला किया गया था, जिसमें एक साथ कांग्रेस के 31 नेताओं की जान चली गई थी।

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News