News

क्या नक्सलियों के नाम पर मासूमों को गोली मार रही छत्तीसगढ़ पुलिस ?

Last Modified - January 10, 2018, 3:32 pm

शनिवार को बीजापुर के गंगालूर थाना अंतर्गत करका गांव में हुए पुलिस नक्सली मुठभेड की घटना फिर विवादों मे घिरता नजर आ रहा है विगत शनिवार को पुलिस की गोली से घायल मासूम बोटिराम (हिड़मा मरकाम) को समय पर इलाज मिलने से उसकी जान बच गई पर वहीं उसका लापता साथी सोमारू मरकाम पिता मांगु को तलाश कर रहे परिजनों को उसकी मौत की खबर मिली। दरअसल बीजापुर पुलिस मुठभेड़ में एक नक्सली को मार गिराने का दावा कर रही थी पर उसकी शिनाख्ती सोमवार शाम तक नही कर पाई, जिसके बाद सोशल मीडिया में वायरल तस्वीर में कथित मुठभेड़ में मारे गए नक्सली की तस्वीर की पहचान परिजनों ने सोमारू के रूप में कर ली है। उनका आरोप है कि गाय ढूंढने गए मासूमों को पुलिस ने नक्सली बताकर गोली मारी है।

रायपुर स्टेशन मास्टर ने अफसरों को भेजे अश्लील वीडियो

लापता की तलाश में लगे परिजनों के साथ बचेली पहुंची आप नेत्री सोनी सोरी, सर्व आदिवासि समाज और परिजन ने फिर एक बार पुलिस पर फर्जी मुठभेड़ कर मासूमो पर गोली चलाने का आरोप लगाया है सोनी सोरी ने कहा कि परिजनों और घायल के मुताबिक शनिवार को हिड़मा और सोमारू गाय ढूंढने गए थे तब सुरक्षाबलों ने घेरकर गोली मारी यहां घायल हिड़मा को पुलिस क्रोस फायरिंग में गोली लगने की बात कह रही थी वही उसके हम उम्र नाबालिक साथी सोमारू को मारकर नक्सली मारने की ढींगे हांक रही है इस कथित मुठभेड़ की सच्चाई क्या है यह तो आने वाले समय ही पता चलेगा।

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News