रायपुर News

मेरी मानहानि छत्तीसगढ़ की जनता के हाथ, महाराज का गुलाम नहीं-अमित जोगी

Last Modified - January 13, 2018, 11:00 am

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के बेटे अमित जोगी के बीच इन दिनों जबर्दस्त जंग छिड़ी हुई है। इस जंग का मैदान है सोशल मीडिया, जिसके ट्विटर प्लेटफॉर्म पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिंहदेव और कांग्रेस से निष्कासित मरवाही विधायक अमित जोगी आमने-सामने हैं। एक-दूसरे को ट्वीटर पर रिप्लाई करते-करते दोनों नेता अदालत और जन अदालत तक पहुंचने की बात कर रहे हैं। टी एस सिंहदेव ने जब ये कहा है कि अमित जोगी को कानूनी तरीके से जवाब दिया जाएगा, तो अमित जोगी ने ट्वीट किया कि उनका मान और हानि छत्तीसगढ़ की जनता के हाथ में है, पैलेस के महाराज का गुलाम नहीं है। इस ट्वीटर वॉर की शुरुआत हुई थी उद्योगपति समूह अडानी को लेकर किए गए अमित जोगी के ट्वीट से, जिसमें उन्होंने छत्तीसगढ़ की डॉ. रमन सिंह सरकार के साथ-साथ प्रतिपक्ष के नेता टी एस सिंहदेव पर भी हमला बोला है। अमित जोगी ने ट्वीट किया कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को सरगुजा के घाटबर्रा में निरस्त किए गए 900 आदिवासियों के वन अधिकार पट्टे को बहाल करना चाहिए, जिसे बेशर्मी के साथ अडानी को बेच दिया गया है। इसी ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि विपक्ष सेट से क्योंकि अडानी की खदानों में कोयला ट्रांसपोर्ट कांट्रैक्ट टी एस सिंहदेव के पास है। 

ये भी पढ़ें- मध्य प्रदेश और गुजरात में पद्मावत रिलीज नहीं होने देगी भाजपा सरकार

अमित जोगी के इस ट्वीट के जवाब में टी एस सिंहदेव ने लिखा कि आरोप निराधार हैं और इसके पीछे विकृत सोच की राजनीति है। उन्होंने लिखा कि वे इस तरह

अमित जोगी ने टी एस सिंहदेव के कानूनी रूप से जवाब देने के ट्वीट के बाद एक और ट्वीट किया कि मेरा मान और हानि छत्तीसगढ़ की जनता के हाथ में हैं, किसी महल के महाराजा के गुलाम नहीं। 

ये भी पढ़ें- इतिहास में पहली बार SC के 4 जजों की प्रेस कांफ्रेंस, CJI के खिलाफ मोर्चा

इसके बाद सिंहदेव ने भी एक और ट्वीट किया कि उनका अडानी से किसी तरह का कोई व्यावसायिक संबंध नहीं है।


ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट के चारों जजों की प्रेस कांफ्रेंस पर देखिए कानूनविदों की प्रतिक्रिया

सिंहदेव ने अमित जोगी को ये भी याद दिलाया कि आदिवासियों के अधिकारों की लड़ाई कांग्रेस ने शुरू की थी और ये लड़ाई सच पर आधारित होगी, झूठ पर नहीं

 

ये भी पढ़ें- धरती के भगवान का करिश्मा, 7 महीनों बाद मिला नन्ही परी को नया जीवन

अमित जोगी भी नहीं थमे और एक और ट्वीट करके लिखा कि जिस तरह से टी एस सिंहदेव दो-दो बार सफाई भी दे रहे हैं और ये भी लिख रहे हैं कि जवाब देना ज़रूरी नहीं समझते, उससे साफ पता चलता है कि दाल काली है। 

ये भी पढ़ें- सुख समृद्धि और खुशहाली का पर्व है लोहड़ी

11 जनवरी को अमित जोगी के ट्वीट से शुरू ट्विटर वॉर 12 जनवरी को जारी रहा और ये लड़ाई सोशल मीडिया से बाहर निकलकर छत्तीसगढ़ के राजनीतिक हलकों में भी चर्चा का मुद्दा बन गया है। छत्तीसगढ़ में इसी साल राज्य विधानसभा के चुनाव होने हैं, जिसमें सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी और मुख्य विपक्ष कांग्रेस आमने-सामने हैं। इन दोनों के अलावा अजीत जोगी के नेतृत्व में जनता कांग्रेस भी इन दिनों काफी सक्रिय है। जनता कांग्रेस एक ओर रमन सरकार तो दूसरी ओर छत्तीसगढ़ कांग्रेस के खिलाफ लगातार हमले बोल रही है, जिससे इस बार का विधानसभा चुनाव अभी से काफी दिलचस्प होता दिखने लगा है।

 

वेब डेस्क,  IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News