भोपाल News

मध्यप्रदेश के आधे से ज्यादा थानों में नहीं है लेडिज टॉयलेट- हाईकोर्ट

Last Modified - January 17, 2018, 2:10 pm

मध्य प्रदेश के आधे से ज्यादा पुलिस थानों में महिलाओं के लिए अलग से लेडीज टॉयलेट नहीं है यह खुलासा हुआ है सरकार की ओर से जबलपुर हाईकोर्ट में पेश की गई रिपोर्ट से.

ये भी पढ़ें- जानिए भोपाल के 545 स्कूलों की मान्यता क्यों खतरे में है ?

  

ये भी पढ़ें- मुरैना में हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के कार्यक्रम में जमकर मारपीट

एक जनहित याचिका पर राज्य सरकार ने हाईकोर्ट में कहा है कि प्रदेश के 1095 में से 566 पुलिस थानों में साल 2000 से 2004 के बीच महिलाओं के लिए अलग से टॉयलेट बनाए गए हैं। इसी तरह बाकी 529 थानों में महिलाओं के लिए अलग से टॉयलेट बनाए जा रहे हैं। सरकार का जवाब आने पर, मामले पर अगली सुनवाई के लिए एक हफ्ते बाद की तारीख तय की गई है.

  

ये भी पढ़ें- भोपाल:स्कूल-कॉलेज बस और वैन के पहिए थमे,वाहन चालकों का हड़ताल

दरअसल जबलपुर के एक वकील अमिताभ गुप्ता ने ये जनहित याचिका दायर की थी, याचिका में कहा गया है पुलिस विभाग में काम करने वाली महिला अधिकारियों और स्टाफ के लिए अलग से साफ सुथरे टॉयलेट होने चाहिए। अभी इन महिला कर्मचारियों को कॉमन टॉयलेट में जाना पड़ता है, जो आमतौर पर साफ सुथरे नहीं होते। कार्यस्थल पर वाशरूम और रिटायरिंग रूम जैसी मूलभूत सुविधाएं कामकाजी महिलाओं के सम्मान से जुड़ी होती हैं.

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News