News

छत्तीसगढ़ में जहां लगेगी पद्मावत, वो सिनेमाघर जलेगा - राजपूत समाज

Last Modified - January 18, 2018, 1:23 pm

रायपुरपद्मावत के प्रदर्शन को लेकर दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने इस फिल्म पर पाबंदी लगाने वाले चार राज्यों मध्यप्रदेश, गुजरात, राजस्थान और हरियाणा को नोटिस जारी किया है, साथ ही बैन के आदेश पर स्टे लगा दिया है। दूसरी ओर, अब छत्तीसगढ़ में भी पद्मावत को रिलीज न होने देने की नई चेतावनी जारी कर दी गई है। छत्तीसगढ़ राजपूत समाज के एक प्रतिनिधिमंडल ने कहा है कि ये अंतिम चेतावनी है और इसकी अनदेखी की गई तो इसका खामियाजा भुगतना होगा। प्रदर्शनकारियों ने कहा है कि महारानी पद्मावती उनकी आन, बान, शान की प्रतीक हैं और अगर छत्तीसगढ़ में ये फिल्म लगी तो उसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। समाज की ओर से ये चेतावनी दी गई है कि जहां पद्मावत चलेगी, वो सिनेमाघर जलेगा। 

ये भी पढ़ें- पद्मावत को सुप्रीम कोर्ट से ग्रीन सिग्नल, बैन लगाने वाले राज्यों को नोटिस

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में राजपूत समाज की ओर से डॉ. रमन सिंह सरकार में गृहमंत्री रामसेवक पैकरा को एक ज्ञापन भी सौंपा गया। इस ज्ञापन में गृहमंत्री पैकरा से पद्मावत पर पूरे राज्य में बैन लगाने की मांग की गई है। राजपूत समाज की ओर से कहा गया है कि जिन सिनेमा हॉल्स में ये फिल्म दिखाई जाएगी, उन्हें जला दिया जाएगा। समाज ने कहा है कि इस चेतावनी के बाद कोई भी बदलाव मंजूर नहीं किया जाएगा और वो पूरी पाबंदी चाहते हैं।

ये भी पढ़ें- पद्मावत रिलीज होने से पहले ही गंवा चुकी है 25 फीसदी कलेक्शन

आपको बता दें कि पद्मावत के खिलाफ विरोध, प्रदर्शन सुप्रीम कोर्ट के ग्रीन सिग्नल के बाद भी कम होता नहीं दिख रहा है। अब तो सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर भी सवाल उठ रहे हैं। इस फिल्म के प्रदर्शन पर पाबंदी की वकालत करने वाले संगठन के नेता सूरजपाल ने कहा है कि आज सुप्रीम कोर्ट ने लाखों करोड़ लोगों और हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है, जो सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हैं, लेकिन इस फिल्म के खिलाफ संघर्ष जारी रहेगा। 

अब ये देखना दिलचस्प होगा कि छत्तीसगढ़ शासन राजपूत समाज के ज्ञापन और उनकी चेतावनी पर क्या जवाब देता है। दूसरी ओर, इस चेतावनी ने छत्तीसगढ़ के उन सिनेमाहॉल मालिकों की चिंता भी बढ़ा दी है, जिन्होंने 25 जनवरी को रिलीज हो रही पद्मावत के प्रदर्शन के लिए पैसे लगा रखे हैं। अगर पद्मावत छत्तीसगढ़ में रिलीज होती है तो थिएटर्स की सुरक्षा भी स्थानीय पुलिस-प्रशासन के लिए एक चुनौती से कम नहीं होगी।

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News