News

छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं देवव्रत सिंह

Last Modified - January 29, 2018, 3:38 pm

वेब टीम -छत्तीसगढ़ की राजनीतिक सियासत में कुछ नया रंग आना अब तय है। कांग्रेस का गढ़ माने जाने खैरागढ़ के राजा देवव्रत सिंह के बारे में अब अटकलों को विराम मिलने वाला है. जब से उन्होंने कांग्रेस का साथ छोड़ा था उसके  बाद से ही कभी भाजपा तो कभी आप पार्टी से हाथ मिलाने की बात की जा रही थी.लेकिन अब  तस्वीर साफ हो गयी है। और इस तस्वीर से ये बात उभर कर आई है कि आने वाली 1 फरवरी को मंजे हुए राजनीतिक खिलाड़ी देवव्रत सिंह जोगी कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने जा रहे हैं। हालाकि अब तक इस बात की आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है.लेकिन आने वाले सभी समीकरण का मिलान करने पर ये बात साफ दिखाई दे रही है। 

 

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आने वाली एक फरवरी को जोगी कांग्रेस सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की  खैरागढ़  में बड़ी सभा है और इस सभा के दौरान ही राजा देवव्रत पार्टी में प्रवेश करेंगे। अब तक देवव्रत से भाजपा के लोगो ने कई बार इस विषय पर चर्चा की है लेकिन खानदानी कांग्रेसी समर्थकों होने के कारण उन्होंने जोगी कांग्रेस की तरफ रुख करना बेहतर समझा है। 

ये भी पढ़े - जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जनसंवाद के माध्यम से बनायेगा अपना घोषणा-पत्र

 

ज्ञात हो की  कि कांग्रेस के पूर्व सांसद देवव्रत सिंह ने 29 दिसंबर को जब कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दिया था ।उस वक्त भी ये बात सामने आई थी कि उनकी इस घोषणा के पीछे अमित जोगी की मुख्य भूमिका है। उसके कुछ दिनों बाद ही  देवव्रत सिंह ने सपरिवार जोगी बंगले में डिनर किया था। उसके बाद से ही  उनके जोगी कांग्रेस में जाने की खबरे ज़्यादा चर्चा में रही। आपको बता दें कि 31 जनवरी और 1 फरवरी को जनता कांग्रेस जोगी राजनांदगांव और खैरागढ़  में एक बड़ा आयोजन कर रही है। 

 

पूर्व सांसद देवव्रत सिंह ने इस्तीफे के बाद लगभग आधा दर्जन विधानसभा  क्षेत्र का दौरा किया है जिनमें  खैरागढ़, डोंगरगांव, खुज्जी, मोहला मानपुर, राजनांदगांव और डोंगरगढ़ प्रमुख हैं जहां आज भी राजा साहब को पूजा जाता है। विस सीटों की बाते करें तो इन सभी सीटों से कांग्रेस को नुकसान पहुंच सकता है। राजनांदगांव और डोंगरगढ़ को छोड़कर बाकी सीटों पर कांग्रेस का ही कब्जा है।अब देवव्रत के जोगी कांग्रेस में शामिल होने से ऊँट किस करवट बैठेगा ये देखना बाकी है.हालांकि दोनों पक्षों में से किसी ने आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है लेकिन अजीत जोगी की पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने इसके साफ संकेत दिए हैं कि खैरागढ़ में 1 फरवरी को कुछ खास होने वाला है। 

 

रेणु नंदी IBC24

Trending News

Related News