News

गोबरधन योजना से बढ़ेगी किसनों की आय, बजट पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा बहुत कुछ खास

Last Modified - February 1, 2018, 1:59 pm

अपनी सरकार के पूर्ण कालिक बजट के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी प्रतिक्रिया देने देश के सामने आए आइए जानते है उन्होंने क्या कहा, यह बजट देश के 100 करोड लोगों की आशा अपेक्षा परी करने वाला बजट है यह बजट आम लोगों का बजट है बिजनेसमेन का और किसानों का बजट है और निवेश का बजट है।

देखें -

हमारे देश के किसानों ने खाद्यायन और फल सब्जियों का रिकाॅर्ड उत्पादन कर देश की अर्थव्यवस्था में बढ़ा योगदान किया है गांव और कृषि क्षेत्र के साढे 14 लाख करोड़ रूपए का आवंटन इस बजट में किया है यह चैतरफा विकास को समर्पित है ये बजट, इस बजट में नए इंफ्रास्ट्रक्चर पर फोकस किया गया है। सब्जी और फल पैदा करने वाले किसानों के लिए हम फूड प्रोसेसिंग यूनिट तैयार कर रहे है। उन्होने कहा उन्होंने बताया कि किसानों के लिए कैसे कई नई योजनाए तैयार किया गया है उन्होंने बताया कि गोबर धन और पशु मुत्र योजना गांव को स्वच्छ रखने के साथ ही उनकी आय बढ़ाने में मदद करेगी। किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से पशुपालन और मछली पालन के लिए ऋण देने की योजना को प्रधानमंत्री ने सराहनीय बताया। यह बजट किसानों और गांव के माध्यम से अर्थव्यवस्था को उपर ले जाने की कोशिश करेगा।

देखें -

मोदी ने उज्वला योजना की तारीफ करते हुए इसका दायरा 5 करोड़ परिवार से 8 करोड़ परिवार करने पर वित्त मंत्री को बधाई दी और बताया कि देश के हाशिए पर पढ़े तबके को इस योजना से बराबर लाने की कोशिश की जा रही है। इसी के साथ उन्होंने इस बजट की सबसे बड़ी घोषणा आयुष्मान योजना के बारे में भी जानकारी दी उन्होनंे बताया कि यह दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम है इससे देश के  10 करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा और ग्रामीण और मध्यम वर्ग को यह योजना स्वस्थ्य सेवा देने में मील का पत्थर साबित होगी।

इसी के साथ उन्होंने सीनीयर के लिए ब्याज, इंनकम टैक्स रिलेक्सेशन  और हाॅस्पिटल में होने वाले खर्च पर भी टैक्स में छूट देने की घोषणा पर खुशी जाहिर की। उन्होंने बड़े और लघु उद्योगों के बारे में बात करते हुए कहा कि हमने सभी सुक्ष्म, लधु और मध्यम उद्योगों को टैक्स में 5 प्रतिशत की छूटी दी है अब उन्हे 30 प्रतिशत की जगह 25 प्रतिशत टैक्स देना होगा। इससे मेक इन इंडिया के मिशन को ताकत मिलेगी। प्रधानमंत्री ने बताया कि एनपीए के कारण बड़े, छोटे और लघु मध्यम में एनपीए के निपटारे के लिए सरकार ठोस कदम की घोषणा जल्द करेगी। रोजगार के लिए लोगों को इनफार्मल से फाॅर्मल की ओर लाने का काम सरकार कर रही है। नई महिला कर्मचारी को इपीएफ में योगदान 12 प्रतिशत के कम कर 8 प्रतिशत कर दिया है लेकिन उद्योग को पूरी 12 प्रतिशत राशि का भूगतान करना होगा।

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News