News

बजट का 'जख्म' भरने पेट्रोल-डीजल का मरहम, दो रूपए घटे दाम

Created at - February 1, 2018, 4:01 pm
Modified at - February 1, 2018, 6:42 pm

मोदी सरकार ने अपने पूर्ण कालिक बजट के माध्यम से पेट्रोल डीजल के बढ़े दामों से जुझते आम लोगों को राहत देने की कोशिश की है। बजट भाषण के बाद सरकार ने घोषणा की है कि पेट्रोल-डीजल पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी को 2 रूपए तक घटाया गया है। इसका फायदा सीधे आम लोगों को मिलेगा।

मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से अभी तक पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में 380 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इससे पहले डीजल पर उत्पाद शुल्क 380 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ाया गया है जिसके कारण यह 2014 में जहां 3.56 रूपए था वहीं 2017 के अंत और आज तक कुल 17.33 रूपए प्रति लीटर तक पहुंच गया है। मोदी सरकार के सत्ता में आने के समय पेट्रोल का उत्पाद शुल्क 9.48 पैसे था जो मौजूदा समय में 21.48 रूपए प्रति लीटर तक पहुंच गया है, इसका अर्थ यह है कि पेट्रोल के उत्पाद शुल्क में 120 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

गोबरधन योजना से बढ़ेगी किसनों की आय, बजट पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा बहुत कुछ खास

आपको बता दें कि आॅयल कंपनियां पेट्रोल-डीजल के दाम तीन आधारों पर तय करती है पहला है इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड आयल के भाव, कू्रड का देश में आयत के समय भारतीय रूपए का डाॅलर के अधार पर मुल्य और इंटरनेशनल मार्केट में पेट्रोल-डीजल के भाव, इन तीन आधारों पर ही कंपनियां पेट्रोल डीजल के भाव तय करती है।

मोदी सरकार के पूर्ण कालिक बजट में रेलवे को क्या मिला और इससे आपको क्या होगा फायदा

यहां आपका यह जानना जरूरी है कि पिछले कई दिनों से इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड आॅयल महंगा होने और भारतीय रूपए में आई कमजोरी के कारण पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ते ही जा रहे है। और पिछले दिनों पेट्रोल डीजल अपने अधिकतम मूल्य पर पहुंच गया था। इन्ही बड़े हुए भाव से राहत देने के लिए सरकार ने बजट के बाद लोगों को एक्साइज ड्यूटी घटाकर राहत दी है।  

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News